DRI किया कस्टम ड्यूटी चोरी का भंडाफोड़

1.92 करोड़ रुपए का एरोमैटिक केमिकल एवं ऑयल जब्त

By: Pushpendra Rajput

Published: 10 Feb 2018, 09:18 PM IST

अहमदाबाद. राजस्व सूचना निदेशालय (डीआरआई)- जोनल यूनिट अहमदाबाद ने न्हावाशेवा पोर्ट से कस्टम ड्यूटी चोरी का भंडाफोड़ किया। फिलहाल डीआरआई ने 1.92 करोड़ रुपए का एरोमैटिक केमिकल एवं ऑयल जब्त किया है।
डीआरआई अधिकारियों को जानकारी मिली थी कि मुंबई की मेसर्स एसोसिएट एलाइड केमिकल्स (इंडिया) प्रा. लिमिटेड न्हावाशेवा पोर्ट पर मंगाए जाने वाले एरोमैटिक केमिकल्स एवं एसेंसियल ऑयल में कस्टम ड्यूटी चोरी कर रही है। बाद में डीआरआई अधिकारियों ने मुंबई में मेसर्स एसोसिएट एलाइड केमिकल्स (इंडिया) प्रा. लिमिटेड के कार्यालय परिसर में सर्च किया और कई अहम दस्तावेजों की जांच की। जांच के दौरान मालूम हुआ कि विदेशी सप्लायर ने वस्तुओं का जो मूल्य दर्शाया था उसमें छेड़छाड़ की गई थी। इस इम्पोर्टर से करीब पांच करोड़ रुपए कस्टम ड्यूटी चोरी उजागर हुई है। फिलहाल न्हावाशेवा पोर्टर से डीआरआई-अहमदाबाद की टीम ने कस्टम अधिनियम -1962 के तहत 1.92 करोड़ रुपए का एरोमैटिक केमिकल्स एवं एसेसेंस ऑयल जब्त किया है। जहां यह इम्पोर्टर अलग-अलग बिलों में कस्टम को वस्तुओं का मूल्य डॉलर में बता था, जबकि विदेशी सप्लायर उसे बिलों में यूरो में बताते थे। यूरो की तुलना में यूएस डॉलर का मूल्य कम होता है।

कार टायर तस्करी का पर्दाफाश
राजस्व आसूचना निदेशालय (डीआरआई) ने मुन्द्रा बंदरगाह से कार टायरों की तस्करी का पर्दाफाश किया। डीआरआई ने एक करोड़ से ज्यादा के कार टायर जब्त किए। डीआरआई-जोनल यूनिट अहमदाबाद के अधिकारियों को जानकारी मिली थी कि गांधीधाम की कंपनी सिद्धार्थ इम्पेक्स पर्यावरण एवं वन विभाग के मंत्रालय एवं विदेश नीति को दरकिनार कर मुन्द्रा बंदरगाह से 40 फीट कन्टेनर में पुराने और उपयोगी कार टायरों की तस्करी का प्रयास कर रही है। ये कन्टेनर रोटरडम और नीदरलैण्ड से लाए जा रहे हैं। भारतीय मानक ब्यूरो के निर्धारित मानकों से आयात नीति के मुताबिक टायर होने चाहिए। पुराने और उपयोगी टायरों को आयात करने से पहले पर्यावरण एवं वन विभाग की अनुमति लेनी होती है। पुराने और उपयोगी टायर केवल कबाड़ में लाए जा सकते हैं, लेकिन उनके दो से तीन कटिंग के बाद ही सीमा शुल्क विभाग से क्लीयरंस लिया जा सकता है। यह कंपनी फर्जी दस्तावेज तैयार कर टायरों को मंगा रही थी। इसके चलते डीआरआई ने मुन्द्रा बंदरगाह पर निगरानी की। जब कन्टेनर मुन्द्रा बंदरगाह पर पहुंचे थे डीआरआई टीम ने इसकी सूचना विशेष जांच एवं खुफिया विभाग, कस्टम-मुन्द्रा को दी। जब कन्टेनर को खोला गया तो उसमें पुराने और उपयोगी टायर मिले। विशेष जांच और खुफिया विभाग-, कस्टम-मुन्द्रा ने जखीरा जब्त कर लिया, जिसकी लागत एक करोड़ रुपए थी।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned