इंदौर में छपवाकर वडोदरा में खपाते थे जाली नोट

Gyan Prakash Sharma

Publish: Feb, 15 2018 11:05:31 (IST)

Ahmedabad, Gujarat, India
इंदौर में छपवाकर वडोदरा में खपाते थे जाली नोट

दो हजार व पांच सौ के जाली नोटों के साथ चार गिरफ्तार

वडोदरा. स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) की टीम ने वडोदरा में जाली नोट खपाने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए चार जनों को गिरफ्तार किया है। उनके पास से दो हजार व पांच सौ के जाली नोट, एक देशी पिस्तौल व कारतूस बरामद किए हैं।
पुलिस आयुक्त मनोज शशिधर ने गुरुवार को बताया कि गिरफ्तार आरोपियों में मध्यप्रदेश के इंदौर में रेडिसन चार रास्ता के निकट निवासी सुनील बाबूराव पाटिल, छोटाउदेपुर जिले की पावीजेतपुर तहसील के कालाराणी गांव निवासी नरेशकुमार प्रजापति, उसका पुत्र कृषिल प्रजापति एवं बोडेली स्थित कुबेरनगर सोसायटी निवासी मोहसीन मजीदभाई मकराणी शामिल हैं। यह गिरोह दो हजार व ५०० के जाली नोट इंदौर में छपवाकर वडोदरा में खपाता था। स्थल से तीन लाख दो हजार के नकली नोट बरामद किए हैं।
मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर एसओजी की टीम ने शहर के सोमा तालाब के निकट से चारों को गिरफ्तार किया। जांच में थैले से दो हजार व पांच सौ के जाली नोट मिले।


१० वर्ष की सजा भुगत चुका है मुख्य आरोपी
पुलिस आयुक्त शशीधर ने बताया कि जाली नोट छापने का मुख्य आरोपी सुनील पाटिल है, जो नकली नोट छापने के मामले में इंदौर में १० वर्ष की सजा भुगत चुका है। दो महीने पूर्व ही जेल से छूटा था और पुन: नकली नोट छापना शुरू कर दिया। नरेश के साथ पहचान होने से उसने नकली नोट छापने व वडोदरा में खपाने की योजना बनाई। सुनील पाटिल ने प्रिंटर, स्केनर आदि ऑनलाइन मंगाई और नकली नोट छापना शुरू कर दिया, लेकिन प्रथम कंसाइंमेंट असफल रहा, क्योंकि जाली नोटों की गुणवत्ता अच्छी नहीं थी। बाद में पुन: दो हजार व पांच सौ के जाली नोट छापना शुरू किया और तीन लाख दो हजार के जाली नोटों को लेकर सुनील वडोदरा पहुंचा, लेकिन वडोदरा में खपाने से पहले की पुलिस ने पकड़ लिया। पाणीगेट पुलिस ने चारों के विरुद्ध मामला दर्ज किया है। स्थल से दो हजार रुपए की दर के १२६ व पांच सौ रुपए की दर के १०० जाली नोट, पिस्तौल, मोबाइल, दुपहिया वाहन आदि बरामद किया।

1
Ad Block is Banned