आईआईटी लॉन्ड्री के ठेकेदार का पुलिसकर्मी बन किया अपहरण

पिस्तोल दिखाकर ५० हजार लूटे, मोटा चिलोडा रास्ते में ४० वर्षीय महिला ने मांगी थी लिफ्ट, छोडऩे के एवज में दस लाख रुपए की मांग की

अहमदाबाद. आईआईटी गांधीनगर और निरमा यूनिवर्सिटी में लॉन्ड्री का ठेकेदार नारणपुरा निवासी मनोज जानी को मोटा चिलोडा रोड पर एक ४० वर्षीय महिला को लिफ्ट देना महंगा पड़ गया। मनोज का कहना है कि घटना बुधवार दोपहर को हुई। वह गांधीनगर आईआईटी से मोटा चिलोडा जा रहे थे। रास्ते में उन्हें एक ४० वर्षीय महिला मिली। उसने उसके बेटे के हिम्मतनगर में बीमार होने की बात कहते हुए लिफ्ट मांगी। उन्होंने महिला को बैठा लिया चार किलोमीटर आगे उसे चार लोग रास्ते में खड़े मिले। उन्होंने कार रुकवाई। खुद की पहचान गांधीनगर एलसीबी कर्मचारी के रूप में दी। एक युवक की कमर पर पिस्तौल लटक रही थी। इस बीच कार में पिस्तौल दिखाकर ५० हजार रुपए पहले ही मनोज से ले लिए। उसे छोडऩे के एवज में दस लाख रुपए की मांग की।
बाद में चार में से एक युवक मेघा को ले जाता हूं, कहकर महिला को बाइक पर बैठाकर ले गया। इसके बाद इन तीन लोगों ने हिम्मतनगर रोड पर ले जाकर मनोज को जैन धर्मशाला के एक कमरे में शाम तक बंधक बनाकर रखा। सके बाद थाने ले जाने की जगह उसे किसी जैन धर्मशाला के कमरे में बंधकर बनाकर रखा और रिश्तेदारों से पैसे मंगाने का दबाव डाला। रात को मनोज की बहन डॉ. हिना के घर जाकर रुपए लेने जाने की बात कहते हुए मनोज को उसकी कार में बिठाकर बोडकदेव हिना के घर पहुंचे। तीन आरोपी कार में बैठे रहे और अंदर जाकर रुपए लाने को कहा- रुपए का इंतजाम में दस से पंद्रह मिनट का समय लगने से आरोपी कार लेकर फरार हो गए। वस्त्रापुर पुलिस ने मनोज की शिकायत पर चार लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की है।

बहन के घर के बाहर के सीसीटीवी फुटेज मिले
वस्त्रापुर पुलिस को मनोज की बहन डॉ. हिना के घर के बाहर के सीसीटीवी फुटेज मिले हैं।जिसमें आरोपी कार से फरार होते दिख रहे हैं। हालांकि अभी तक आरोपियों का कोई पता नहीं चल पाया है।

nagendra singh rathore
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned