कोरोना से जान गंवाने वाले कलाकारों के परिजनों को मिलेंगे 2 लाख

योजना के तहत नृत्य, नाट्य, पपेट, लोककला, चित्रकला, शिल्प स्थापत्य के कलाकार होंगे शामिल, 10 वर्षों का योगदान जरूरी

By: MOHIT SHARMA

Published: 29 Jul 2021, 11:50 PM IST

गांधीनगर. राज्य सरकार उन कलाकारों के परिजनों की मदद में उतरी है जिन्होंने कोरोना संक्रमण से जान गंवाई है। ऐसे कलाकारों के परिजनों को राज्य सरकार दो लाख रुपए की आर्थिक सहायता मुहैया कराएगी। फिलहाल राज्य सरकार ऐसे कलाकारों का ब्योरा एकत्रित कर रही है जिन्होंने कोरोना संक्रमण से मौत हुई है।
राज्य में पिछले दो वर्षों में कोरोना संक्रमण से कइयों ने जान खोई है। ऐसे में नृत्य, नाट्य, पपेट, लोककला, चित्रकला, शिल्प स्थापत्य या ग्राफिक्स के कलाकार भी शिकार हुए। ऐसे कलाकारों के मौत के चलते कई परिवार बेसहारा भी हो गए हैं। अब ऐसे कलाकारों की राज्य सरकार आर्थिक सहायता करेगी। यह आर्थिक सहायता उन कलाकारों के परिजनों को मुहैया कराई जाएगी, जिन्हें किसी भी कला में कम से कम दस वर्षों का योगदान रहा हो। ऐसे कलाकारों के परिजनों को दो लाख रुपए की सहायता मुहैया कराई जाएगी।
गुजरात के किसी भी जिले में रहने वाले कलाकारों के परिजन अपने जिले के खेलकूद कार्यालय अथवा जिला युवा विकास अधिकारी का संपर्क कर सकते हैं। उन्हें कलाकार का नाम, प्रमाणपत्र, कलाकार के साक्ष्य, आवक का प्रमाणपत्र समेत दस्तावेज पेश करने होंगे।

बेसहारा बच्चों की भी मदद
गौरतलब है कि कोरोना से माता-पिता खोनेवाले बच्चों को तो मौजूदा समय में राज्य सरकार मदद मुहैया कर रही है। अब ऐसे बच्चे जिनके माता या पिता ने कोरोना से जान गंवाई है उन बच्चों को भी राज्य सरकार हर माह दो हजार रुपए आर्थिक सहायता मुहैया कराएगी। राज्य सरकार अगलेे माह दो अगस्त से यह राशि ऐसे बच्चों के बैंक खाते में जमा कराएगी। गुजरात के 33 जिले के 776 बेसहारा बच्चों को सहायता दी जा रही है।

अभी कलाकारों को आर्थिक सहायता देने को लेकर नीति बन रही है। बाद में उन कलाकारों को आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाएगी।
-ईश्वरसिंह पटेल, युवा एवं सांस्कृतिक विभाग के मंत्री।

MOHIT SHARMA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned