बिना सर्जरी ही भेज दी १४४ फाइलें, फायनेंस कंपनी को एक करोड़ की चपत!

ओढव के निजी हॉस्पिटल संचालक पर ठगी का आरोप

By: nagendra singh rathore

Published: 25 Apr 2018, 10:56 PM IST

अहमदाबाद. ओढव में अंबिकानगर के पास तपन हॉस्पिटल के संचालक नरेश वावडिया तथा मैनेजमेंट का काम देखने वाले प्रदीप पंचाल पर बजाज फायनांस कंपनी के साथ विश्वासघात, जालसाजी करते हुए एक करोड़ रुपए की ठगी करने का मामला सामने आया है। मामला तब पकड़ में आया जब एक ही रोगी की दो फाइलें मेडिकल लोन की मंजूरी के लिए भेज दीं। जांच करने पर फर्जीवाड़ा का शक हुआ और आखिरकार मंगलवार को इनके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई गई।
मेडिकल ऑपरेशन, उपचार के लिए ऋण देने वाली बजाज फायनांस कंपनी की ओर से अचल शरण पटेल ने मंगलवार को ओढव थाने में तपन हॉस्पिटल ओढव के संचालक नरेश वावडिया, हॉस्पिटल मैनेजमेंट का काम देखने वाले प्रदीप पंचाल के साथ बजाज फायनांस कंपनी के एक्जीक्यूटिव पत्थर कुआ निवासी मोहम्मद तौफिक शेख पर भी आरोप लगाया। इन पर आरोप है कि इन लोगों ने मिली भगत करके उनकी कंपनी को एक करोड़ की चपत लगाई। आरोप है कि इन्होंने रोगी का ऑपरेशन न हुआ हो ऐसे रोगी का भी ऑपरेशन, सर्जरी कराए होने के फर्जी दस्तावेज तैयार किए। खर्च के इनवॉइस लेटर तैयार करके १४४ रोगियों का डाटा पेश करके कंपनी के पास से एक करोड़ रुपए ले लिए। इसमें उनकी कंपनी के एक्जीक्यूटिव मोहम्द तौफिक की भी मिलीभगत रही। सितंबर २०१७ से दिसंबर २०१७ के दौरान यह जालसाजी की गई।

आरोप है कि इन्होंने रोगी का ऑपरेशन न हुआ हो ऐसे रोगी का भी ऑपरेशन, सर्जरी कराए होने के फर्जी दस्तावेज तैयार किए। खर्च के इनवॉइस लेटर तैयार करके १४४ रोगियों का डाटा पेश करके कंपनी के पास से एक करोड़ रुपए ले लिए। इसमें उनकी कंपनी के एक्जीक्यूटिव मोहम्द तौफिक की भी मिलीभगत रही। सितंबर २०१७ से दिसंबर २०१७ के दौरान यह जालसाजी की गई।

खर्च के इनवॉइस लेटर तैयार करके १४४ रोगियों का डाटा पेश करके कंपनी के पास से एक करोड़ रुपए ले लिए। इसमें उनकी कंपनी के एक्जीक्यूटिव मोहम्द तौफिक की भी मिलीभगत रही। सितंबर २०१७ से दिसंबर २०१७ के दौरान यह जालसाजी की गई।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned