Fire in High rise building in Ahmedabad, one death अहमदाबाद की एक बहुमंजिला इमारत में आग, एक की मौत, ४० लोगों को बचाया

Fire in High rise building in Ahmedabad, one death अहमदाबाद की एक बहुमंजिला इमारत में आग, एक की मौत, ४० लोगों को बचाया

nagendra singh rathore | Publish: Jul, 26 2019 08:01:59 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

ब्रिगेड कॉल करना पड़ा था जारी, ३५ टीमें, 100 से ज्यादा कर्मचारी लगे, डेढ़ घंटे में ही आग पर पाया काबू

 

अहमदाबाद. शहर के गोता इलाके के समीप जगतपुर गांव स्थित गणेश जेनेसिस नाम की रिहायशी इमारतों में से ई ब्लॉक के पांचवीं मंजिल पर किसी कारणवश शुक्रवार दोपहर को आग लग गई। आग ने देखते ही देखते उग्र स्वरूप ले लिया, जिससे आग ऊपरी छठी, सातवीं, आठवीं और नौवीं मंजिल तक भी फैल गई। धुए के गुबार ने पूरी इमारत और आसपास के क्षेत्र को भी गिरफ्त में ले लिया। इस पूरी घटना में एक महिला अंजना पटेल की मौत हो गई है, जबकि पांचवीं मंजिल से ऊपरी 11 मंजिल तक फंसे 40 लोगों को फायर ब्रिगेड, पुलिस एवं आसपास के लोगों ने बचाया।
आग को बुझाने के दौरान धुएं के चलते दमकल अधिकारी मिथुन मिस्त्री की स्थिति बिगड़़ी उन्हें भी उपचार के लिए 108 की मदद से सोला सिविल अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। अब उनकी स्थिति सुधार पर है।
इमारत में लगी आग के भीषण होने के चलते इसे काबू में करने के लिए फायरब्रिगेड को ब्रिगेड कॉल जारी करना पड़ा। इसे बुझाने के लिए शहर के ज्यादातर इलाकों की फायर टीमें मौके पर पहुंची। कुल ३५ टीमों और सवा सौ के करीब फायरब्रिगेड के कर्मचारियों ने डेढ़ घंटे की मेहनत के बाद आग पर काबू पाया।
शहर के मुख्य दमकल अधिकारी एम.एफ.दस्तूर ने बताया कि आग की इस घटना में ४० के करीब लोगों को बचाया गया। सात को धुएं की ज्यादा असर होने के चलते अस्पताल भेजना पड़ा। शेष को पीछे के हिस्से में सीढ़ी लगाकर उतारा गया। आग के कारणों का पता नहीं चल पाया है। फायरब्रिगेड के अधिकारियों को आशंका है कि आग या तो सिलेंडर से गैस लीक होने के चलते या फिर एसी में शॉर्ट सर्किट होने के चलते लगी हो सकती है। हालांकि पुख्ता कारणों का पता लगाने के लिए एफएसएल की मदद ली जा रही है।

नहीं चली हाइड्रोलिक सीढ़ी, लोगों में रोष
पांचवीं मंजिल पर आग लगी होने लेकिन उसके ऊपरी मंजिलों पर भी फैलने और धुएं के चलते ऊपरी मंजिल पर लोगों के फंसे होने के चलते हाइड्रोलिग सीढ़ी को भी मदद के लिए मौके पर पहुंचाया गया था। सीढ़ी समय पर पहुंच भी गई, लेकिन वह आधी दूरी तक ही एक बार खुली और फिर चालू ही नहीं हुई। मुख्य दमकल अधिकारी एम.एफ.दस्तूर की दलील थी कि लोगों के हाइड्रोलिक सीढ़ी को चारों ओर से घेर कर खड़े हो जाने के चलते सेंसर ने काम नहीं किया। जबकि अतिरिक्त मुख्य दमकल अधिकारी राजेश भट्ट का कहना था कि जिस जगह इसे लगाया गया था वहां उसे बैलेंस बराबर नहीं मिल पाया जिससे सेंसर लॉक हो गए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned