Ahmedabad News: अब आग लगने पर स्वत: फायरब्रिगेड में कॉल, एसएमएस, लोकेशन पहुंचेगा, कैसे..पढि़ए...

Ahmedabad News: अब आग लगने पर स्वत: फायरब्रिगेड में कॉल, एसएमएस, लोकेशन पहुंचेगा, कैसे..पढि़ए...
Ahmedabad News: अब आग लगने पर स्वत: फायरब्रिगेड में कॉल, एसएमएस, लोकेशन पहुंचेगा, कैसे..पढि़ए...

nagendra singh rathore | Updated: 06 Oct 2019, 08:53:44 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

Ahmedabad, Surat Takshila complex fire, Tution classes fir, VGEC, innovation, Student, fire alert system सूरत की तक्षशिला कॉम्पलैक्स ट्यूशन क्लासेज आगजनी दुर्घटना की खामियों का अध्ययन कर वीजीईसी विद्यार्थियों का इनोवेशन, नई एडवांस फायर सेफ्टी अलार्म सिस्टम की विकसित

अहमदाबाद. छह महीने पहले सूरत के तक्षशिला कॉम्पलैक्स में स्थित ट्यूशन क्लासेज में आग लगने से २० विद्यार्थियों की मौत की घटना का पुनरावर्तन रोकने को अहमदाबाद के चांदखेड़ा इलाके में स्थित विश्वकर्मा सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज (वीजीईसी) के पावर इलैक्ट्रोनिक्स ब्रांच के विद्यार्थियों ने नई एडवांस फायर सेफ्टी अलार्म सिस्टम विकसित की है। इसका वर्किंग मॉडल भी तैयार कर लिया है।
जो किसी गोदाम, होटल, हॉस्पिटल, मॉल जैसे स्थलों पर अचानक आग लगती है तो स्वत: ही फायरब्रिगेड को एसएमएस के जरिए, फोन कॉल के जरिए सूचना देगी। इतना ही नहीं जिस जगह आग लगी है उसका लोकेशन भी फायरब्रिगेड में भेजेगी। वह भी महज तीन से पांच सेकेन्ड में।
इस सिस्टम को प्रोफेसर डॉ.ए.एम.हक के मार्गदर्शन में विकसित करने वाले वीजीईसी के पांच विद्यार्थियों में से एक केतन प्रजापति ने बताया कि सूरत की तक्षशिला इमारत स्थित ट्यूशन क्लासेज में आग लगी तो तत्काल फायरब्रिगेड के मदद के लिए नहीं पहुंच पाने के चलते कई विद्यार्थियों की जान चली गई थी। इसी घटना के चलते इस सिस्टम को विकसित करने का विचार आया।
अन्य छात्र भार्गव सिद्धपरा ने बताया कि इस नई एडवांस फायर सेफ्टी अलार्म सिस्टम में आर्डीनो मेगा, जीएसएम मॉड्यूल एवं फ्लेम सेंसर का उपयोग किया है। जिसके जरिए फायरब्रिगेड एवं जिस जगह आग लगी है उस इमारत के मैनेजर को ऑटोमेटिक कॉल, एसएमएस पहुंचता है। जिससे तत्काल मदद पहुंचाने में मदद मिलेगी।
हर्ष ठुमर ने बताया कि सिस्टम ज्यादा महंगी नहीं है। इसे 15 सौ रुपए में ही विकसित किया गया है, ताकि इसे आसानी से कोई भी व्यक्ति लगा सकता है।
जय पटेल ने बताया कि इस सिस्टम को यूं तो कहीं भी उपयोग में लिया जा सकता है, जहां आग लगने का खतरा रहता है। जैसे गोदाम, होटल, हॉस्पिटल, दुकान, मॉल वगेरह। अन्य छात्र दिव्येश पांडव ने कहा कि यह सिस्टम मौजूदा फायर अलार्म सिस्टम से ज्यादा एडवांस है। इसे और भी ज्यादा बेहतर बनाने की संभावना भी है।

तत्काल मदद पहुंचाने में मिलेगी मदद
विद्यार्थियों की ओर से विकसित की गई इस एडवांस फायर अलार्म सिस्टम के जरिए घटनास्थल तक तत्काल मदद पहुंचाने में मदद मिलेगी। क्योंकि आग लगने पर किसी व्यक्ति के नहीं बल्कि खुद सिस्टम के द्वारा ही संदेश भेजा जाएगा, जो आग लगने पर धुआं उठते ही उसके तीन से पांच सेकेन्ड में मैसेज भेज दिया जाएगा।
-प्रो.ए.एम.हक, प्राध्यापक, वीजीईसी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned