संदेश मिला, फिर भी टीका लगवाए बिना ही लौटे लोग

वडोदरा शहर में

By: Rajesh Bhatnagar

Published: 14 May 2021, 11:14 PM IST

वडोदरा. शहर के अनेक लोगों को कोरोना रोधी टीका लगवाने का संदेश मिलने के बावजूद टीकाकरण केन्द्रों से टीका लगवाए बिना ही लौटना पड़ा।
सूत्रों के अनुसार राज्य सरकार की कोर कमेटी के निर्णयानुसार 45 वर्ष अधिक आयु के लोगों को 14 से 16 मई तक टीके नहीं लगाने का निर्णय किया गया। पहले से ही संदेश प्राप्त कर चुके लोगों को कमेटी के निर्णय के कारण परेशान होना पड़ा।
एक महिला शिल्पाबेन पटेल (बदला हुआ नाम) के अनुसार कोरोना रोधी टीके की दूसरी खुराक लगवाने के लिए वह पिछले तीन दिन से मानसिक अस्पताल में चक्कर लगा रही हैं। टीका लगवाने के लिए उन्हें संदेश भी प्राप्त हुआ, लेकिन टीका नहीं लगाया गया। शहर के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर तीन दिन टीकाकरण बंद रखने के बोर्ड लगाए गए हैं, इनको पढक़र अनेक लोगों को टीका लगवाए बिना ही घर लौटना पड़ा।

घरों पर कोरोना रोधी टीका लगवाने की मांग

वडोदरा. कोरोना से बचाव के लिए घरों पर कोरोना रोधी टीके लगवाने की प्रक्रिया शुरू करने की मांग वडोदरा महानगर पालिका (वीएमसी) की कांग्रेस की महिला पार्षद ने की है।
वीएमसी के वार्ड 1 की कांग्रेस पार्षद पुष्पाबेन वाघेला ने इस संबंध में वीएमसी के आयुक्त पी. स्वरूप को पत्र भेजा है। पत्र में लिखा है कि कोरोना के कारण लोगों की हालत खराब हो रही है, कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण ही एकमात्र उपाय है।
शहर के नागरिकों की प्राथमिक आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए कोरोना रोधी टीकाकरण घर-घर जाकर किया जाना चाहिए। उन्होंने लिखा कि जिन लोगों के पास स्मार्ट फोन नहीं, पंजीकरण करने के लिए घर में दूसरा व्यक्ति नहीं, दिव्यांग, नेत्रहीन, बिस्तर पर रह रहे लोगों के लिए फिलहाल कोई व्यवस्था की है?

Rajesh Bhatnagar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned