जीएसईबी ने घोषित किया गुजकैट का परिणाम: ए ग्रुप में ४७४ विद्यार्थियों ने पाई ९९ पर्सेन्टाइल रैंक

GSEB, Gujcet 2021, result declared, BE, Bpharma, Dpharma, admission -बी ग्रुप में ९९ पर्सेन्टाइल रैंक पाने वाले विद्यार्थी ६७८

By: nagendra singh rathore

Published: 21 Aug 2021, 10:09 PM IST

अहमदाबाद. गुजरात माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (जीएसईबी) ने शनिवार को गुजरात कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (गुजकैट) का परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया। इसमें ए ग्रुप में ४७४ विद्यार्थियों ने ९९ पर्सेन्टाइल रैंक पाई है। जबकि बी ग्रुप में ६७८ विद्यार्थियों ने 99 पर्सेन्टाइल रैंक पाई।
जीएसईबी के अनुसार इस वर्ष गुजकैट में एक लाख १७ हजार ९३२ विद्यार्थियों ने पंजीकरण कराया था। जिसमें से एक लाख १३ हजार २०२ विद्यार्थियों ने परीक्षा दी थी।
ए ग्रुप में पंजीकरण कराने वाले ४८ हजार १७२ विद्यार्थियों में से ४६ हजार १३ विद्यार्थियों ने परीक्षा दी थी। जिसमें ३६ हजार ५५४ छात्र और ९४५९ छात्राएं शामिल हैं। ए ग्रुप के ४६ हजार विद्यार्थियों में से ४७४ ने 99 पर्सेन्टाइल रैंक (अंक पाए) हैं। यानि ९९ फीसदी अंक पाने वाले विद्यार्थियों की संख्या ए ग्रुप में ४७४ है।
इसी प्रकार यदि बी ग्रुप की बात करें तो बी ग्रुप में पंजीकरण कराने वाले ६९ हजार ३७७ विद्यार्थियों में से ६६ हजार ९०९ विद्यार्थियों ने परीक्षा दी थी, जिसमें से ६७८ विद्यार्थियों ने 99 पर्सेन्टाइल रैंक पाई है। यानि ९९ फीसदी अंक पाए हैं। इस ग्रुप में परीक्षा देने वालों में छात्रों की संख्या ३1 हजार १९९जबकि छात्राओं की संख्या ३५ हजार ७१० थी। एबी ग्रुप में पंजीकरण कराने वाले ३८३ विद्यार्थियों में से २८० ने परीक्षा दी। जिसमें छात्रों की संख्या १९८ और छात्राओं की संख्या ८२ है।
बीते साल के परिणाम से तुलना करें तो बीते वर्ष से इस वर्ष गुजकैट में 99 पर्सेन्टाइल रैंक पाने वालों की संख्या थोड़ी सी बढ़ी है। बीते वर्ष ए ग्रुप में ४१० विद्यार्थियों ने जबकि बी ग्रुप में ६५५ विद्यार्थियों ने ९९ पर्सेन्टाइल रैंक पाई थी। हालांकि बीते वर्ष एक लाख छह हजार १६४ विद्यार्थियों ने परीक्षा दी थी।
गुजरात में डिग्री इंजीनियरिंग (बीई) ,डिग्री फार्मेसी (बीफार्म), डिप्लोमा फार्मेसी (डीफार्म) पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए गुजकैट अनिवार्य है।

गुजकैट के 50 फीसदी अंक बनेंगे बीई मेरिट का आधार
गुजरात सरकार ने इस वर्ष २०२१-२२ में बीई, बीफार्म, डीफार्म पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए गुजकैट के ५० फीसदी अंकों को आधार में लेने का निर्णय किया है। यानि 12वीं विज्ञान संकाय के ५० और गुजकैट के ५० फीसदी अंकों के आधार पर वरीयता सूची तैयार की जाएगी। इससे पहले तक 12वीं कक्षा के ६० और गुजकैट के ४० फीसदी अंकों के आधार पर वरीयता सूची तैयार की जाती थी। वरीयता सूची में भौतिकविज्ञान, रसायन विज्ञान, गणित/जीवविज्ञान (पीसीएम/बी) और इसी प्रकार गुजकैट में इन विषयों के अंकों को ध्यानार्थ लिया जाता है।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned