जीटीयू में स्थापित होगा टेक्नोलॉजी बिजनेस इन्क्यूबेटर

GTU, TBI, Atal incubation center, DIC, Gujarat, Ahmedabad, Startup, innovation, project पांच करोड़ की आर्थिक सहायता स्वीकृत, ९३ लाख मिलेे, अटल इन्क्यूबेशन सेंटर, डिजाइन इनोवेशन सेंटर के बाद टीबीआई वाला जीटीयू देश का पहला विवि होने का दावा

By: nagendra singh rathore

Published: 09 Apr 2021, 08:15 PM IST

अहमदाबाद. स्टार्टअप एवं इनोवेशन को बढ़ावा देने के मामले में देश के अग्रणी विश्वविद्यालयों में शुमार गुजरात तकनीकी विश्वविद्यालय (जीटीयू) में अब टेक्नोलॉजी बिजनेस इन्क्यूबेटर (टीबीआई) सेंटर भी स्थापित होगा। इसके लिए केन्द्र सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने जीटीयू को पांच करोड़ रुपए का अनुदान स्वीकृत किया है। पहले चरण के तहत ९३ लाख रुपए जीटीयू को इस सेंटर को बनाने के लिए प्रदान भी कर दिए हैं।
जीटीयू का दावा है कि अटल इन्क्यूबेशन सेंटर (एआईसी), डिजाइन इनोवेशन सेंटर (डीआईसी) के बाद टेक्नोलॉजी बिजनेस इन्क्यूबेटर (टीबीआई) को स्वीकृति मिलने से इन तीनों ही सेंटर की सुविधा रखने वाला जीटीयू देश का पहला विश्वविद्यालय बन गया है। जल्द ही टीबीआई को भी शुरू कर दिया जाएगा।
जीटीयू के कुलपति प्रो. नवीन शेठ ने कहा कि टीबीआई की स्वीकृति मिलने से टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में इनोवेशन करने में कार्यरत विद्यार्थियों को काफी मदद मिलेगी। उन्हें उनके प्रोजेक्ट के लिए बेहतर मार्गदर्शन मिल सकेगा। उनके प्रोजेक्ट का प्रोटोटाइप विकसित करने में और प्रोजेक्ट की डिजाइन तैयार करने में जरूरी मार्गदर्शन मिल सकेगा। इसके अलावा जरूरी आर्थिक मदद भी उन्हें मिल सकेगी।
कुलपति और कुलसचिव डॉ के एन खेर की ओर से जीटीयू की गुजरात इनोवेशन काउंसिल (जीआईसी) के निदेशक प्रो.संजय चौहान, जीटीयू इनोवेशन स्टार्टअप सेंटर के सीईओ तुषार पंचाल और प्रो.राज हकानी को टीबीआई को जल्द शुरू करने के निर्देश दिए हैं, ताकि जल्द से जल्द विद्यार्थियों को इस सेंटर का लाभ मिल सके।

४०९ स्टार्टअप को ४.७५ करोड़ की आर्थिक मदद
जीटीयू की ओर से स्टार्टअप-इनोवेशन को बढ़ावा देने के लिए अब तक ४०९ स्टार्टअप को ४.७५ करोड़ की आर्थिक मदद प्रदान की जा चुकी है। यह मदद गुजरात सरकार की स्टूडेंट स्टार्टअप एंड इनोवेशन पॉलिसी(एसएसआईपी), एआईसी और डीआईसी के तहत प्रदान की गई है १४२ प्रोजेक्ट का पेटेंट, ट्रेडमार्क और डिजाइन रजिस्ट्रेशन भी हो चुके हैं।

टीबीआई में ये सुविधा
टीबीआई में विद्यार्थियों को तकनीक के क्षेत्र में ऑग्मेंटेड और वुर्चअल रियालिटी, डीप लर्निंग, मशीन लर्निंग, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), एम्बेडेड सिस्टम सहित के क्षेत्र में बेहतर मार्गदर्शन, तकनीकी मदद और आर्थिक मदद मिलेगी।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned