गुजरात में कोरोना काल के सात महीने में 33 हजार से ज्यादा को मिली नौकरी

Gujarat, Ahmedabad, Jobs, Online job fair, Corona राज्य ने महामारी में भी नहीं थमने दी रोजगार की रफ्तार

By: nagendra singh rathore

Published: 25 Oct 2020, 09:42 PM IST

अहमदाबाद. कोरोना महामारी के चलते देशभर में लागू हुए लॉकडाउन के कारण कई लोगों को अपनी नौकरी गंवानी पड़ी है। कइयों का रोजगार ठप हुआ है तो कइयों की वेतन कटौती हुई है। ऐसे में भी गुजरात में इन सात महीनों में 33 हजार से ज्यादा लोगों को रोजगार प्राप्त हुआ है। राज्य के श्रम एवं रोजगार विभाग के अनुसार कोरोना काल में अप्रेल से लेकर 18 अक्टूबर अब तक 892 ऑनलाइन जॉब फेयर आयोजित किए गए। इसके जरिए 33542 लोगों को कोरोना संक्रमण काल के चलते पैदा हुई विपरीत परिस्थिति के बीच भी रोजगार मिला। यह रोजगार निजी से लेकर सरकारी क्षेत्रों के विभिन्न सेक्टरों में मिला।
दरअसल, गुजरात के श्रम एवं रोजगार विभाग ने कोरोना महामारी के चलते पैदा हुई विपरीत परिस्थितियों में भी रोजगार के पहिए को थमने नहीं दिया। रोजगार के इच्छुक युवाओं और रोजगार देने को तैयार कंपनियों के बीच प्लेटफॉर्म बनने वाले विभाग ने कोरोना के चलते जब रूबरू इंटरव्यू की संभावना खत्म हुई तो ऑनलाइन जॉब फेयर का विकल्प खोज निकाला। तकनीक के सहारे से ऑनलाइन ही नौकरी इच्छुक लोगों और नौकरी देने वाली कंपनियों के कर्मचारियों के बीच साक्षात्कार की सुविधा सुनिश्चित की।
इनमें सर्वाधिक 3500 नौकरी अहमदाबाद के युवाओं को प्राप्त हुई। इसके बाद कच्छ जिला मुख्यालय भुज के 2100 लोगों को, सूरत के 2000 से ज्यादा लोगों को, वडोदरा में 1800 से ज्यादा लोगों को रोजगार प्राप्त हुआ है। पालनपुर में 1700, जामनगर में 1500, नर्मदा और छोटा उदेपुर जैसे आदिवासी बहुल जिलों में 1300-1300 से ज्यादा लोगों को कोरोना काल में रोजगार मिला है। गांधीनगर में भी ऑनलाइन जॉब फेयर के जरिए 1150 और महेसाणा के 1050 लोगों को नौकरी प्राप्त हुई।
इसके अलावा श्रम एवं रोजगार विभाग के जगह जगह स्थित कार्यालयों के माध्यम से अप्रेल से 18 अक्टूबर 2020 के दौरान 45 हजार अतिरिक्त युवाओं को रोजगार दिलाया गया है। इस तरह अप्रेल से अक्टूबर के दौरान राज्य में 78400 लोगों को रोजगार मिला है।

प्रतिवर्ष 2 लाख से ज्यादा युवाओं को मिलता है रोजगार

श्रम एवं रोजगार विभाग के अनुसार प्रतिवर्ष दो लाख से ज्यादा युवाओं को रोजगार मिलता है। इसमें से सवा लाख रोजगार श्रम एवं रोजगार विभाग के कार्यालयों के माध्यम से उपलब्ध कराए जाते हैं। वर्ष 2017-18 में 2.11 लाख नौकरी में से रोजगार कार्यालय के जरिए 1.44 लाख को रोजगार मिला। 2018-19 में 2.29 नौकरी में से रोजगार कार्यालय के माध्यम से 1.38 और 2019-20 में 2.10 लाख नौकरी में से रोजगार कार्यालय के माध्यम से 1.41 नौकरी उपलब्ध करवाई गईं।

ऑनलाइन जॉब फेयर भी सफल

कोरोना के चलते रूबरू जॉब फेयर नहीं हो पा रहे थे, तो तकनीक के जरिए ऑनलाइन जॉब फेयर आयोजित किए गए। ये भी उतने ही प्रभावी हुए। गत अप्रेल से अक्टूबर के दौरान 892 ऑनलाइन जॉब फेयर आयोजित किए, जिसमें 35542 लोगों को कोरोनाकाल के दौरान भी नौकरी मिली। ये सिलसिला आगे भी जारी रखने की योजना है। -डॉ. विपुल मित्रा, अतिरिक्त मुख्य सचिव, श्रम एवं रोजगार विभाग

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned