'कासम' जवाब मिलने पर बीच समंदर दी जानी थी हेरोइन

Gujarat, ATS, heroine, india-pak IMBL, jakho, kutch, dubai, punjab आरोपी के संपर्क करते ही एटीएस-कोस्टगार्ड ने घेर कर पकड़ा, -३० किलो हेरोइन पहुंचाने को 9 लाख में सौदा, दो लाख एडवांस मिले

By: nagendra singh rathore

Published: 20 Apr 2021, 12:16 AM IST

अहमदाबाद. कच्छ के पास समुद्र में जखौ से करीब ४० नोटिकल माइल दूर भारत-पाकिस्तान के अंतरराष्ट्रीय मैरीटाइम बाउंड्री लाइन (आईएमबीएल) के समीप पाकिस्तानी बोट नूह से बरामद की गई ३०० करोड़ कीमत की ३० किलो हेरोइन को आरोपी हाजी नाम के व्यक्ति से संपर्क कर उसके 'कासम' के रूप में जवाब देने पर सौंपने वाले थे। बीच समंदर में ३०० करोड़ की हेरोइन वे सौंपे उससे पहले ही गुजरात एटीएस, द्वारका-कच्छ पश्चिम एसओजी और इंडियन कोस्टगार्ड की टीम ने उन्हें घेर कर पकड़ लिया।
यह बात गुजरात एटीएस की ओर से बीच समंदर से गिरफ्तार किए गए पाकिस्तान निवासी आठ आरोपियों की पूछताछ में सामने आई है।
आरोपियों की पूछताछ में सामने आया कि यह हेरोइन गुजरात के कच्छ के मांडवी में रहने वाले शाहिद कासम सुमरा नाम के व्यक्ति की ओर से भेजे गए लोगों को सौंपी जानी थी। सुमरा इससे पहले भी गुजरात एटीएस की ओर से पकड़े गए नशीले पदार्थ के एक मामले में लिप्त है। फिलहाल वह दुबई में बैठा है। दुबई से बैठकर वह अभी भी सीमा पार से नशीले पदार्थों की भारत में तस्करी कर रहा है।
पकड़े गए आरोपियों को हेरोइन सही सलामत पहुंचाने पर कुल नौ लाख रुपए मिलने वाले थे। दो लाख रुपए एडवांस में दिए गए थे, जबकि सात लाख रुपए माल की डिलिवरी हो जाने के बाद दिए जाने वाले थे।
इस मामले में गुजरात एटीएस ने आरोपियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू की है।

पंजाब के तीन व्यक्तियों को देनी थी डिलिवरी
शाहिद कासम सुमरा इस हेरोइन को बीच समंदर से प्राप्त करने के बाद इसकी डिलिवरी पंजाब के रहने वाले मनजीत सिंह बूटा सिंह, रेशमसिंह करनसिंह, पुनित कजाला नाम के व्यक्तियों को सौंपने वाला था।

करांची के आरिफ कच्छी ने सौंपी
गिरफ्तार आठों पाकिस्तानी आरोपियों की पूछताछ में सामने आया कि यह ३० किलोग्राम हेरोइन दो बैग में पाकिस्तान के करांची में बाबा बीट में रहने वाले आरिफ कच्छी ने गिरफ्तार आरोपियों में से एक हुसैन इब्राहिम सिंधी को उसके घर पर सौंपी थी। दो थैलों में इसे रखा था। इन थैलों को पकड़े गए आरोपी मुस्तफा और नसरुल्ला बाइक से इब्राहिम हैदरी बंदरगाह की जेटटी लेकर पहुंचे। वहां से इसे आरिफ कच्छी के कब्जे वाली नूह शफीना नाम की बोट के खानों में छिपा दिया गया। आरिफ ने कहा था कि यह थैले जखौ से ३५-४० नोटिकल माइल दूर हाजी नाम के व्यक्ति का संपर्क करके तब देनी है जब सामने बोट वाला वाला व्यक्ति कासम के रूप में जबाव दे। हाजी का संपर्क करने पर एटीएस की टीम ने आरोपियों को घेर कर पकड़ लिया।

ये आठ आरोपी हुए हैं गिरफ्तार
गिरफ्तार हुए आरोपियों में पाकिस्तान करांची के मलीर जिले के इब्राहिम हैदरी गांव निवासी मुर्तजा यामीन सिंधी (३५), यामीन उमर सिंधी (६५), मुस्तफा यामीन सिंधी (३३), नसरुल्ला यामीन सिंधी (२८), हुसैन इब्राहिम सिंधी (६२), साले मामद अब्दुल्ला सिंधी (७०), पाकिस्तान के जामसोरो जिले के साइदिल्लू मल्ला गांव निवासी मो. यासीन मो.उर्स मल्ला (३९) और पाकिस्तान के करांची के बंगाली पाडा निवासी रफीक आमद मुल्ला (६२) शामिल हैं।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned