Gujarat: शहरों में भाजपा का दबदबा कायम, कांग्रेस ने मुंह की खाई

Gujarat, Cities, BJP, congress, local body elections

By: Uday Kumar Patel

Published: 24 Feb 2021, 01:01 AM IST

उदय पटेल

अहमदाबाद. गुजरात में छह महानगरपालिकाओं के परिणाम से यह स्पष्ट पता चलता है कि शहरों में भाजपा का दबदबा लगातार कायम है। मंगलवार को आए चुनाव परिणाम में राज्य की छह महानगरपालिकाओं-अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा, राजकोट, जामनगर व भावनगर में भाजपा की जीत हुई है वहीं कांग्रेस को एक बार फिर मुंह की खानी पड़ी है।
इस तरह यह माना जाना चाहिए कि गुजरात में भाजपा शहरों में नंबर एक पार्टी है। यह चुनाव मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के साथ-साथ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विजय रूपाणी के लिए एक टेस्ट के समान रहा जिसमें दोनों पूरी तरह उत्तीर्ण हुए दिखते हैं। हालांकि अभी नगरपालिका, तहसील पंचायत व जिला पंचायत के चुनाव के परिणाम आना बाकी है। वहीं अगले वर्ष के अंत में राज्य में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं लेकिन इतना तो तय है कि मनपा चुनाव परिणाम से भाजपा का आत्मविश्वास एक बार और बढ़ गया है।
गुजरात में भाजपा वर्ष 1995 के बाद से एक दो वर्ष को छोडक़र लगातार सत्ता में है। कांंग्रेस 2015 में तहसील व जिला पंचायतों के चुनाव में भाजपा से आगे थी। लेकिन पिछले पांच वर्षों में किसी भी चुनाव में कांग्रेस भाजपा को मात देने में बुरी तरह से विफल रही है। शहरों में मानसून के दौरान जल जमाव, ट्रैफिक, खस्ताहाल सडक़ों की स्थिति, प्रदूषित पानी सहित कई मुद्दों को भुनाने में कांग्रेस पूरी तरह नाकाम रही है। पार्टी का संगठन भी भाजपा की तरह मजबूत नहीं दिखता। एक तरफ भाजपा का कैडर जहां अपने पार्टी के प्रति वफादार दिखता है वहीं कांग्रेस के साथ ऐसी स्थिति नहीं दिखती है। चुनाव परिणामों से यह भी स्पष्ट होता दिखता है कि भाजपा जहां और सशक्त हो रही है वहीं कांग्रेस का प्रदर्शन लगातार खराब होता जा रहा है। कांग्रेस को अब सोचने पर मजबूर होना पड़ेगा कि अब उसे जनता के बीच किस तरह से जाना होगा। सूरत में तो आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस को तीसरे नंबर पर धकेल दिया है। अगले वर्ष विधानसभा चुनाव हैं इसलिए पार्टी को अपनी स्थिति को मजबूत करनी पड़ेगी। पिछले वर्ष आठ विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में भी कांग्रेस को एक भी सीट नहीं जीत सकी और अब एक भी महानगर उसके खाते में नहीं आ सकी है। हालांकि 1995 से भाजपा अहमदाबाद और सूरत के अलावा अन्य चारों महानगरों में लगातार सत्ता पर काबिज है। उधर जूनागढ़ और गांधीनगर में भी भाजपा का शासन है। इस तरह एक बार फिर भाजपा के सभी छह महानगरों में जबरदस्त जीत पर आम शहरी जनों ने पार्टी को फिर से सत्ता चलाने का मंजूर किया है। आशा है आगे के पांच वर्षों में आम शहरी जनों को अधिकांश सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी वहीं विपक्ष भी आम आदमी के परेशानियों के मुद्दे उठाने का काम करेगा।

BJP Congress
Uday Kumar Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned