Gujarat: गुजरात की समुद्री सुरक्षा को बनाया जाएगा ज्यादा सुरक्षित, मरीन पुलिस को दिए और अधिकार

Gujarat, coastal security, marine police, fishing boats

By: Uday Kumar Patel

Published: 24 Jul 2020, 11:14 PM IST

अहमदाबाद. गुजरात राज्य के बाहर की फिशिंग बोट के गुजरात के समुद्री इलाके में मछली पकडऩे को लेकर बोट के खिलाफ एक लाख रुपए के जुर्माने का प्रावधान किया गया है। साथ ही बोट में मिली मछलियों की बोली लगाई जाएगी। बोली की रकम का पांच गुणा रकम वसूल किया जाएगा।

गृह राज्य मंत्री प्रदीप सिंह जाडेजा के मुताबिक जाडेजा के मुताबिक फिलहाल गुजरात मत्स्योद्योग अधिनियम 2003 में अन्य राज्य की बोट के लिए जुर्माने का प्रावधान नहीं है। कई बार राज्य के बाहर की बोट गुजरात की समुद्री सीमा में मछली पकडऩे या अन्य संलग्न क्रियाकलापों के लिए आती है। इससे राज्य के मछुआरों के हितों का उल्लंघन होता है। नए अध्यादेश में राज्य के बाहर की फिशिंग बोटों के राज्य के समुद्री इलाके में मछली पकडऩे वाली बोटों के खिलाफ जुर्माने के प्रावधान को शामिल किया गया है।

उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय समुद्री सुरक्षा के संदर्भ में राज्य की मरीन पुलिस को गुजरात की प्रादेशिक जल सीमा क्षेत्र में मछली पकडऩे के लिए किसी प्रकार का फिशिंग नाव, बोट या डिप्सी बोट या अन्य कोई यांत्रिक रचना के साथ-साथ मछली की जांच या जप्त करने के लिए जरूरी अधिकार का प्रावधान किया गया है। इसके लिए राज्य के मरीन पुलिस थाने में नियुक्त पुलिस उपनिरीक्षक या इससे उपरी अधिकारी को अमली करण अधिकारीघोषित कर उन्हें विशेष अधिकार दिया गया है। फिशिंग बोट के सीमा उल्लंघन के मामले में बोट के जुर्माने के प्रावधान के लिए स्थानीय प्राधिकार के सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट की ओर से दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। अपील या फिर से जांच के लिए न्याय के निर्णय के लिए डिस्ट्र्क्टि मजिस्ट्रेट का प्रावधान किया गया है।

Uday Kumar Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned