अब राजस्थान में चुनाव प्रचार में कांग्रेसी नेता झोंकेंगे ताकत

अब राजस्थान में चुनाव प्रचार में कांग्रेसी नेता झोंकेंगे ताकत

Pushpendra R.Singh Rajput | Publish: Apr, 25 2019 09:47:47 PM (IST) | Updated: Apr, 25 2019 09:47:48 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

राजस्थान और मध्य प्रदेश से सटे जिलों में चुनाव प्रचार में झोंकेंगे ताकत

अहमदाबाद. गुजरात में लोकसभा चुनाव हो चुका है। अब पांच-छह दिन आराम करने के बाद गुजरात के कांग्रेसी नेता राजस्थान और मध्य प्रदेश से सटे जिलों में चुनाव प्रचार में ताकत झोंकेंगे।
गुजरात से सटे राजस्थान के डूंगरपुर बांसवाड़ा, और उदयपुर में चुनाव प्रचार की जिम्मेदारी कांग्रेस के उपाध्यक्ष और इंडियन नेशनल ट्रेड यूनियन के महासचिव अशोक पंजाबी को सौंपी गई है। पंजाबी अपने सहयोगियों के साथ चुनाव प्रचार में राजस्थान जाएंगे।
बापूनगर विधानसभा से कांग्रेसी विधायक हिम्मतसिंह पटेल ने राजस्थान और उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार में जाएंगे। वे शुक्रवार को ही उत्तर प्रदेश के अमेठी और उसके आसपास के इलाकों में चुनाव प्रचार करेंगे। इसके अलावा हिम्मतसिंह पटेल मूलत: राजस्थान के करौली के निवासी हैं। उन्होंने बताया कि राजस्थान में दूसरे चरण का चुनाव छह मई को है। इससे उत्तर प्रदेश के बाद धोलपुर, करौली, सवाई माधौपुर और दौसा इलाकों में सभा के अलावा मीटिंग करेंगे।
उधर, जमालपुर-खाडिया विधानसभा से कांग्रेसी विधायक इमरान खेड़ा वाला भी राजस्थान में चुनाव प्रचार के लिए जाएंगे। इसके अलावा गुजरात कांग्रेस प्रदेश और जिला इकाइयों से करीब डेढ़ सौ नेता राजस्थान के अलग-अलग जिलों में जाएंगे और पार्टी के प्रचार में अपनी ताकत झोंकेंगे। इमरान खेड़ा वाला ने बताया कि वे पाली, भीलवाडा, उदयपुर में चुनाव प्रचार में जाएंगे। हालांकि राजस्थान में 29 अप्रेल को लोकसभा चुनाव है। उन्होंने कहा कि यदि पार्टी कहेगी तो शुक्रवार को ही रवाना हो जाऊंगा अन्यथा 28 अप्रेल को जाऊंगा। सभा के अलावा मीटिंग भी की जाएंगी। वहीं राज्य सांसद नारण राठवा और पूर्व सांसद प्रभा तावियाड को भी राजस्थान और मध्य प्रदेश से सटे आदिवासी इलाकों में चुनाव प्रचार में जा सकते हैं और मतदाताओं को रिझाएंगे।
अशोक पंजाबी ने कहा कि राजस्थान के डूंगरपुर, प्रतापनगढ़, उदयपुर, बासवाडा के काफी लोग रोजगार कर रहे हैं। करीब सवा लाख ऐसे लोग हैं, जो घरेलू नौकर और कंट्रक्शन कार्य और फुटकर मजदूरी में जुटे हैं। इन मजदूरों के हित में डोमेस्टिक एंड कंस्ट्रक्शन वर्कर्स यूनियन बनाया है, जिससे काफी लोग जुड़े हैं। उन्होंने बताया कि करीब तीन-साढ़े तीन सौ कार्यकर्ताओं के साथ इन इलाकों में जाकर प्रचार किया जाएगा।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned