इस राज्य में घटाईं आरटी-पीसीआर टेस्ट की दरें

Gujarat government, RT-PCR test, hospitals, patients, laboratory: अस्पताल या मरीजों के घरों से सैम्पल के चार्ज में 200 और लेबोरेटरी में 100 रुपए घटाए

By: Pushpendra Rajput

Published: 19 Apr 2021, 09:35 PM IST

गांधीनगर. आरटी-पीसीआर की रिपोर्ट करने वाली निजी लेबोरेटरी के चार्ज राज्य सरकार ने घटाए हैं। जहां कोरोना संक्रमितों के अस्पताल या उनके घरों पर जाकर सैम्पल लिया जाए उसमें दो सौ रुपए और लेबोरेटरी में टेस्टिंग के चार्ज में 100 रुपए की कमी की है। उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने सोमवार को यह घोषणा की।

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमितों का निजी लेबोरेटरी में आरटी-पीसीआर टेस्ट किया जाता है। मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के साथ चर्चा के बाद आमजन को टेस्टिंग की दरों में फायदा कराने के लिए कमी की गई है। जहां अस्पतालों अथवा मरीजों के घर जाकर सैम्पल लिए जाते हैं उसमें अब तक 1100 रुपए चार्ज लिया जाता है, जिसमें 200 रुपए कमी की गई है। यह चार्ज अब 900 रुपए हो जाएगी। वहीं लेबोरेटरी टेस्टिंग का यार्ज 800 रुपए है, जो 100 रुपए घटाया गया है। अब यह चार्ज 700 रुपए किया गया है। आरटी-पीसीआर की घटाई दरें मंगलवार से राज्य की सभी निजी लेबोरेटरी में लागू होंगी।

उन्होंने कहा कि गुजरात की सरकारी लेबोरेटरी में आरटी-पीसीआर तथा एन्टीजन टेस्ट नि:शुल्क किया जाता है। 18 अप्रेल आरटी पीसीआर की 73,711 और एन्टीजन की 92000 टेस्ट समेत 1,65,711 टेस्ट किए हैं। वहीं अब तक आरटी पीसीआर की 40,99,578 एवं 1,19,16,927 एन्टीजन समेत 1,60,16,505 टेस्ट किए गए।

'माÓ कार्ड की अवधि 30 जून तक
उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी में आमजन को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए 'माÓ कार्ड की अवधि 30 जून तक बढ़ाने का स्वास्थ्य विभाग ने निर्णय किया है। यह अवधि 31 मार्च को पूर्ण हो चुकी है। कोरोना महामारी के मौजूदा हालातों को देखते हुए मा कार्ड की अवधि तीन माह अर्थात्ल 30 जून तक बढ़ाई गई है।

उन्होंने अहम घोषणा करते कहा कि राज्य सरकार के अधीनस्थ 11 अस्पतालों में कोरोना संक्रमितों के लिए पीएसए मेडिकल ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट स्थापित किए जाएंगे, जिसमें अहमदाबाद की सिविल अस्पताल में 2000 एलपीएम, सोला जीएमईआरएस अस्पताल, वडोदरा की गोत्री जीएमईआरएस अस्पताल में 1200 एलपीएम एवं पाटण के धारपुर जीएमईआरएस अस्पताल, जूनागढ़ के जीएमईआरएस अस्पताल जनरल अस्पताल, बोटाद, लुणावाडा, मेहसाणा, पोरबंदर, सुरेन्द्रनगर और वेरावल में 700 एलपीएम की क्षमता वाले मेडिकल ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट बनााए जाएंगे ताकि कोरोना संक्रमितों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध हो सके।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned