HC ने दी नाबालिग RAPE विक्टिम के अबॉर्शन की मंजूरी, जानिए क्या है पूरा मामला?

HC ने दी नाबालिग RAPE विक्टिम के अबॉर्शन की मंजूरी, जानिए क्या है पूरा मामला?

pawan kumar pandey | Updated: 11 Jun 2016, 11:36:00 PM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

गुजरात हाईकोर्ट ने 14 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता के गर्भपात की मंजूरी दी है। राजकोट स्थित पीडि़ता के 22 सप्ताह का गर्भ है। इस संबंध में राजकोट महिला पुलिस थाने में पीड़िता के साथ बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई गई थी। पीड़िता की ओर से गर्भपात के लिए पहले सत्र अदालत में यह गुहार लगाई गई थी।

गुजरात हाईकोर्ट ने 14 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता के गर्भपात की मंजूरी दी है। राजकोट स्थित पीडि़ता के 22 सप्ताह का गर्भ है। इस संबंध में राजकोट महिला पुलिस थाने में पीड़िता के साथ बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई गई थी। पीड़िता की ओर से गर्भपात के लिए पहले सत्र अदालत में यह गुहार लगाई गई थी। लेकिन निचली अदालत ने यह मांग खारिज कर दी थी। इसके बाद उसने हाईकोर्ट में गर्भपात की गुहार लगाई। मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रिग्नेंसी एक्ट 1971 के तहत 20 सप्ताह तक के गर्भ के गर्भपात का प्रावधान है।



हाईकोर्ट के मुताबिक, ऐसी स्थिति में कोर्ट को सिर्फ पीड़िता की परिस्थितियों को ध्यान में लेना होगा। इसमें पीड़िता की कम आयु, बलात्कार की घटना व इसके बाद गर्भ ठहरना, मानसिक स्वास्थ्य के लिए गंभीर चोट शामिल है। न्यायालय का विचार है कि इस मामले में गर्भपात की मंजूरी दी जाए। चिकित्सकों की टीम गर्भपात से पहले पीड़िता के हीमोग्लोबिन स्तर व अन्य जांच का परीक्षण करेगी।



कोर्ट के मुताबिक, गर्भपात के बाद पीड़िता को उचित समयावधि तक जरूरी उपचार उपलब्ध कराना होगा। साथ ही राजकोट स्थित पीडीयू सिविल अस्पताल के मेडिकल अधीक्षक गर्भ से निकाले गए टिश्यू को डीएनए परीक्षण के लिए महिला पुलिस थाने के निरीक्षक को सौंपेंगे।



(DEMO PIC)




खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned