scriptGujarat, malaria, Ahmedabad, | मलेरिया उन्मूलन के लक्ष्य की ओर गुजरात | Patrika News

मलेरिया उन्मूलन के लक्ष्य की ओर गुजरात

प्रति हजार आबादी में से मलेरिया के केस की दर एक से भी नीचे

मलेरिया दिवस पर विशेष

अहमदाबाद

Updated: April 24, 2022 09:38:04 pm

अहमदाबाद. गुजरात में मलेरिया केस की दर प्रति एक हजार में से एक से भी कम रही है। इससे साबित होता है कि राज्य मलेरिया उन्मूलन के लक्ष्य की ओर है। मलेरिया को लेकर दावा किया जा रहा है उन्मूलन के लिए राज्यभर में ठोस कदम उठाए जा रहे हैं।
गुजरात सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से मच्छरजनित रोगों के नियंत्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया रोगों को रोकने व फाइलेरिया के उन्मूलन की गतिविधियां जारी हैं। वर्ष 2021 में मलेरिया सर्वेलेंस के 18 फीसदी लक्ष्य की तुलना में 20.39 फीसदी आबादी को शामिल किया गया। पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी लक्ष्य की तुलना में ज्यादा आबादी को शामिल किया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि प्रतिहजार की आबादी में से मलेरिया केस का प्रमाण एक से भी नीचे रखने में सफलता मिली है, जिससे साबित होता है कि राज्य मलेरिया उन्मूनल की दिशा में आगे बढ़ रहा है।
पिछले वर्ष मलेरिया के लिए संवेदनशील 431 गांवों में मलेरिया कीटनाशक का छिडक़ाव किया गया। जबकि 6.97 लाख कीटनाशक युक्त मच्छरदानी का भी वितरण किया गया। आगामी 16 मई से 391 गांवों में कीट नाशक छिडक़ाव का किया जाएगा।
मलेरिया उन्मूलन के लक्ष्य की ओर गुजरात
मलेरिया उन्मूलन के लक्ष्य की ओर गुजरात
मच्छरजनित रोगों से बचने के उपाय
राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कुछ सतर्कता बरतकर मच्छरजनित रोगों से बचा जा सकता है। मलेरिया फैलाने वाले एनोफिलिस मच्छर स्वच्छ और ठहरे हुए पानी में पनपते हैं। ऐसे में पानी को हमेशा ढंका रखा जा सकता है। घर के आसपास भरने वाले पानी का निराकरण किया जाना चाहिए। यदि आसपास ज्यादा पानी भरा है तो उसमें मच्छरों की ब्रीडिंग की खाने वाली मछली भी छोड़ी जा सकती है। समय-समय पर कीटनाशक का छिडक़ाव, दरवाजों एंव खिड़कियों में ऐसी जाली लगाई जा सकती हैं जिससे मच्छर घर के भीतर न जाए। बच्चों व गर्भवती महिलाएं को सोने के लिए मच्छरदानी का उपयोग किया जाना चाहिए। बुखार आने पर रक्त की जांच, मलेरिया के पुष्टि होने पर तत्काल उपचार शुरू किया जाना चाहिए। मच्छर जनित रोगों का उपचार और जांच सरकारी अस्पतालों में निशुल्क होता है।
मलेरिया के लक्षण
मलेरिया होने पर मरीज को कंपकपी के साथ सर्दी लगती है और उसके बाद आठ से 12 घंटे तक तीव्र बुखार आता है। यह बुखार प्रतिदिन के अलावा एक दिन छोडकऱ भी आ सकता है। इसके अलावा सिर में दर्द, उबका आना और शरीर में दर्द भी इसके लक्षण हो सकते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: शिवसेना के एक बागी विधायक का बड़ा दावा, कहा- 12 सांसद जल्द शिंदे खेमे में होंगे शामिल6 और मंत्रियों ने दिया इस्तीफा, Britain के पीएम बोरिस जॉनसन की बढ़ी मुश्किलेंनकवी के इस्तीफे के बाद स्मृति ईरानी बनीं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, सिंधिया को मिला स्टील मंत्रालयVideo: 'हर घर तिरंगा' के सवाल पर बोले Farooq Abdullah, 'वो अपने घर में रखना', भड़के यूजर्सMalaysia Masters: पीवी सिंधू, साई प्रणीत और परूपल्ली कश्यप पहुंचे दूसरे दौर में, साइना नेहवाल हुई बाहरMaharashtra Politics: शिवसेना के संसदीय दल में भी बगावत? उद्धव ठाकरे ने भावना गवली को चीफ व्हिप के पद से हटायाMukhtar Abbas Naqvi ने मोदी कैबिनेट से दिया इस्तीफा, बनेंगे देश के नए उपराष्ट्रपति?काली पोस्टर विवाद में घिरीं महुआ मोइत्रा के समर्थन में आए थरूर, कहा- 'हर हिन्दू जानता है देवी के बारे में'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.