Gujarat: मासिक धर्म की जांच को छात्राओं से जबरन कपड़े उतरवाए, समिति गठित, जिला कलक्टर को सौंपी रिपोर्ट

Gujarat, Mensturation Cycle, girls, Kutch, Bhuj

भुज. शहर के मिर्जापुर रोड स्थित एक मंदिर की ओर से संचालित शैक्षणिक संस्था में मासिक धर्म (ऋतु चक्र) की जांच के लिए ६० छात्राओं के कपड़े उतरवाने का मामला सामने आया है। इस मामले में गठित जांच समिति ने प्राथमिक रिपोर्ट जिला कलक्टर को भी सौंप दी है।
मामले के अनुसार भुज स्थित एक मंदिर की ओर से संचालित एक शैक्षणिक संस्था का नियम है कि जो छात्रा ऋतु चक्र में हो वह सभी के साथ बैठकर हॉस्टल में भोजन नहीं कर सकती। ऐसी युवती को अलग बैठना होता है। बताया जा रहा है कि इसी की जांच करने के लिए गत ११ फरवरी को संस्था की ओर से एक के बाद एक इस तरह से ६० युवतियों के कपड़े उतारकर जांच की गई। इस हरकत से शरमजनक स्थिति में पहुंची छात्राओं ने इस बारे में अभिभावकों को बताया तो यह मामला सामने आया। बात उच्च अधिकारियों तक पहुंची तो गुरुवार को मामले की जांच के लिए समिति का गठन किया गया। इसमें कच्छ विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ. दर्शना धोलकिया, अंग्रेजी विभागाध्यक्ष डॉ. कश्मीरा मेहता, अर्थशास्त्र की विभागाध्यक्ष डॉ. कल्पना, रजिस्टार डॉ. तेजल शेठ और डीन पी.एस. हिराणी हैं। समिति ने गुरुवार दोपहर को छात्राओं से बातचीत करने के बाद संस्था के न्यासियों के साथ भी बैठक की। सूत्रों के अनुसार जांच समति के समक्ष छात्राओं ने यह बात कही है कि ११ फरवरी को ६० छात्राओं के कपड़े ऋतुचक्र की जांच के लिए उतरवाए गए ।

दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का भरोसा
संस्था के एक ट्रस्टी का कहना है कि संस्था में अध्ययनरत छात्राओं के साथ किए गए बरताब के संबंध में दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।


जिला कलक्टर को सौंपी रिपोर्ट

मामले के की जांच के लिए बनाई गई प्राथमिक जांच समिति ने जिला कलक्टर को सौंप दी है।

डॉ. दर्शना धोलकिया, कुलपति. कच्छ यूनिवर्सिटी

ओम शर्मा Photographer
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned