Gujarat News : अहमदाबाद में 16 दिनों मेें ही डेंगू के 454 मरीज

मनपा की कार्रवाई के बावजूद मच्छरों का उपद्रव

अहमदाबाद. महानगरपालिका की ओर से जून माह से ही चल रही मच्छरों की उत्पत्ति को रोकने की कार्रवाई के बावजूद डेंगू और मलेरिया जैसे रोगों में वृद्धि हुई है। नवम्बर माह के सोलह ही दिनों में डेंगू के मरीजों की संख्या ४५४ पर पहुंच गई है। पिछले वर्ष पूरे माह में डेंगू के मरीजों की संख्या ३३२ दर्ज की गई थी।
नवम्बर माह के शुरुआती सप्ताह में डेंगू के मरीजों की संख्या २९० थी। जबकि दो सप्ताह (१६ नवम्बर तक) में यह संख्या ४५४ हो गई। मच्छरजनित रोग मलेरिया के सोलह दिनों में १५२ मरीज तो चिकनगुनिया के १९ और फाल्सीफेरम के २१ मरीजों की पुष्टि हुई है।
पिछले वर्ष नवम्बर के पूरे महीने में ही डेंगू के ३३२ मरीजों की पुष्टि हुई थी। इनके अलावा मलेरिया के १६७, फाल्सीफेरम के ४० तथा चिकनगुनिया के ३९ मरीजों की पुष्टि हुई थी।
१६ दिनों में २७४६ सिरम सेंपल
डेंगू की आशंका के चलते शहर के विविध अस्पतालों में सोलह दिनों में ही २७४६ सिरम सेंपल लिए गए। इनमें से ४५४ की डेंगू पॉजिटिव के रूप में पुष्टि हुई थी। अन्य बीमारियों की आशंका पर शहर के निजी एवं सरकारी समेत अस्पतालों में करीब ५४ हजार रक्त के नमूनों की जांच की गई। जनवरी से अब तक इस तरह के नमूनों की संख्या १३.५० लाख से भी अधिक है।
मच्छरों के उपद्रव को लेकर २११ इकाइयां सील
महानगरपालिका के स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि इस वर्ष मच्छरों की उत्पत्ति को रोकने के लिए गत जून माह में शहर की कंस्ट्रेक्शन साइट, अस्पताल, होटल, शैक्षणिक व कॉंमर्शियल संस्थाओं में मच्छरों की जांच शुरू की गई। इसके बाद से अब तक २११ इकाइयों को सील किया कर दिया गया है। इनमें से ज्यादातर इकाइयां ऐसी पाई गई जो मच्छरों की उत्पत्ति को रोकने में ठोस कदम नहीं उठा रहीं थीं। इस संबंध में सैकड़ों इकाइयों को नोटिस दिए गए हंै तो अनेक से जुर्माना भी वसूला गया है। पिछले सोलह दिनों में ही ७३ इकाइयों को सील किया गया है।

Omprakash Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned