scriptGujarat Sandal Wood cultivation | Gujarat Sandal Wood cultivation चंदन की खेती से सुगंधित पर्यावरण के साथ किसान भी मालामाल | Patrika News

Gujarat Sandal Wood cultivation चंदन की खेती से सुगंधित पर्यावरण के साथ किसान भी मालामाल

  • बनासकांठा जिले के अजापुर वांका गांव की 50 बीघा जमीन में उगाए गए हैं चंदन के पेड़
  • 85 वर्षीय किसान मूलजी देसाई की प्रगति से अन्य किसान भी हो रहे प्रेरित

अहमदाबाद

Published: July 31, 2022 12:32:30 pm

पालनपुर. कुछ नया करने का साहस हो तो व्यक्ति की मेहतन और धीरज उसे सफलता के मुकाम पर पहुंचा देती है। बनासकांठा जिले की अमीरगढ तहसील के अजापुर वांका गांव के 85 वर्षीय प्रगतिशील किसान मूलजी देसाई नई पीढ़ी के किसानों के लिए प्रेरणा बन गए हैं। उन्होंने सुगंधित लकड़ी की खेती कर न सिर्फ परंपरागत फसलों से हटकर नकदी फसल को उपजाया बल्कि पूरे क्षेत्र के वातावरण को भी सुगंधित कर दिया। ऊपर से वे इस खेती से लाखों रुपए की आमदनी प्राप्त करते हैं।
Gujarat Sandal Wood cultivation चंदन की खेती से सुगंधित पर्यावरण के साथ किसान भी मालामाल
Gujarat Sandal Wood cultivation चंदन की खेती से सुगंधित पर्यावरण के साथ किसान भी मालामाल
मूल पालनपुर तहसील के जगाणा के निवासी मूलजी देसाई ने शिक्षक के तौर पर अपना कॅरियर पूरा किया। जगाणा गांव मेें दो बार सरपंच भी रह चुके हैं। सेवानिवृत्ति के बाद लोगों की गतिविधियां कम हो जाती है, इसके विपरीत मूलजी देसाई पहले से भी ज्यादा सक्रिय हो गए। खेत में स्पोट्र्स जूते पहनकर युवाओं की तरह चहलकदमी करते देखे जाते हैं। इन्होंने अपनी 75 बीघे जमीन में से 50 बीघे जमीन में चंदन के पेड़ की बुवाई की।

कर्नाटक से लेकर आए चंदन के पौध
वर्ष 2012 में वे दक्षिण भारत के कर्नाटक से 500 चंदन के पौध लेकर आए थे। आज 50 बीघे में उनके 10 हजार चंदन के पेड़ तैयार हो चुके हैं। इसकी रखवाली के लिए उन्होंने सीसीटीवी कैैमरे की मदद ली है। वहीं चंदन के पेड़ों की खुराक के लिए उसके आसपास प्लाइवुड और नीम के पेड़ लगाए। चंदन के पेड़ की खासियत होती है उसके समीप खास पेड़ लगाकर उसकी खुराक की पूर्ति की जाती है। गुजरात में चंदन की बुवाई कुल बुवाई का महज 0.45 फीसदी है। जो कि कुल खेती 17 हजार 432 हेक्टेयर में से महज 80 हेक्टेयर है।

दो प्रकार के हैं चंदन
चंदन के मुख्य दो प्रकार हैं जिसमें सुखड और रक्त चंदन शामिल है। दोनों प्रकार के चंदन की खूब मांग है। चंदन की लकड़ी से फर्नीचर, पाउडर, अगरबत्ती, हैंडीक्राफ्ट, तेज, इत्र, परफ्यूम, साबुन समेत अन्य चीजों का निर्माण होता है। रक्त चंदन की विदेशों में खूब मांग है। इसकी चीन, जापान, सिंगापुर, मलेशिया, यूएई में मांग है। इसके अलावा चंदन के पेड़ के साथ बोए गए दूसरे पेड़ों की भी प्लाईवुड इंडस्ट्रीज में उपयोग होता है।
Gujarat Sandal Wood cultivation चंदन की खेती से सुगंधित पर्यावरण के साथ किसान भी मालामालएक बीघे से सालाना 5 लाख की आवक
चंदन की खेती के बारे में मूलजी देसाई बताते हैं कि इसके परिपक्व होने में 15 वर्ष लगते हैं। चंदन के दो वृक्षों के बीच 3 गुणे 3 मीटर का फासला होना जरूरी है। एक बीघे में 270 पौधे रोपे जा सकते है। बुवाई के 15 वर्ष बाद इससे आवक मिलनी शुरू हो जाती है, जो कि 100 वर्ष तक जारी रहती है। एक बीघे में किसान को सालाना पांच लाख की आवक होती है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में चंदन के भाव में दिन प्रतिदिन बढोतरी देखने को मिलती है। बड़ी आवक के लिए समय के साथ पूंजी का निवेश जरूरी है। इतने वर्ष तक चंदन के पेड़ की देखभाल करना आसान नहीं होता है। छोटे किसान इतनी पंूजी रोक नहीं सकते हैं। इसके बावजूद कई प्रगतिशील किसान अब इस दिशा में आगे आ रहे हैं। सरकार भी चंदन की खेती के लिए किसानों को प्रोत्साहित कर प्रति पौध 30 रुपए की सहायता देती है। मूलजी देसाई संडलवुड सोसायटी ऑफ इंडिया बेंगलुरु के सदस्य भी हैं। अपने खेती की सफलता में वे सरकार के प्रोत्साहन को भी महत्वपूर्ण मानते हैं। उनका कहना है कि चंदन की खेती से जहां पर्यावरण शुद्ध और सुगंधित होता है, वहीं विदेशी पूंजी भी मिलती है। यह किसानों की समृद्धि का द्वार खोलता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

सुशील कुमार मोदी का नीतीश सरकार पर हमला, कहा - 'लालू के दामाद और कार्यकर्ता चला रहे सरकार, नीतीश लाचार'CM हेमंत सोरेन के आवास पर आज UPA की बैठक, JMM, कांग्रेस और RJD होंगे शामिलड‍िप्‍टी सीएम मनीष स‍िसोद‍िया के यहां CBI की रेड के बाद LG का बड़ा आदेश, 12 IAS अफसरों का ट्रांसफरमनीष सिसोदिया के घर समेत 31 जगहों पर रेड, 17 अगस्त को ही दर्ज हुई थी FIR, CBI ने जारी की पूरी डीटेलउपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर CBI की छापेमारी के बाद आम आदमी पार्टी ने किया ऐलान - '2024 में मोदी Vs केजरीवाल'PICS: देशभर में श्री कृष्ण जन्माष्टमी की धूम, सुनाई दे रही जयश्री कृष्णा की गूंजक्यों मनीष सिसोदिया के घर पर CBI कर रही छापेमारी? जानिए क्या है पूरा मामलामहाकाल की शाही सवारी 22 को, चार लाख श्रद्धालुओं के आने का अनुमान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.