scriptHuge reduction in the beneficiaries of menstrual hygiene scheme | Menstrual hygiene scheme मासिक धर्म स्वच्छता योजना के लाभार्थियों में भारी कमी | Patrika News

Menstrual hygiene scheme मासिक धर्म स्वच्छता योजना के लाभार्थियों में भारी कमी

इस वर्ष करीब सात महीने में सिर्फ3 करोड़ ने लिया लाभ

तमिलनाडु में सर्वाधिक एवं दिल्ली, बिहार सहित 10 राज्यों में शून्य लाभार्थी

अहमदाबाद

Published: August 03, 2022 10:54:08 pm

राजेश भटनागर

अहमदाबाद. महीने के मुश्किल दिनों में किशोरियों को संक्रमण, उससे होने वाली गंभीर बीमारियों से बचाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से शुरू की गई मासिक धर्म स्वच्छता योजना (एमएचएस) के लाभार्थियों की संख्या में भारी गिरावट आई है। वर्ष 2021-22 में 11 करोड़ 28 लाख के मुकाबले वर्ष 2022-23 में (19 जुलाई तक) 3 करोड़ 80 लाख लाभार्थियों ने ही योजना का लाभ लिया है। राज्यसभा में डॉ.अमी रावत व फूलो देवी नेताम की ओर से पूछे गए सवाल के जवाब में केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्यमंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने यह जानकारी दी कि तमिलनाडु में सर्वाधिक एवं दिल्ली, बिहार सहित 10 राज्यों में इस योजना का लाभ किसी को भी नहीं मिला है। एमएचएस के तहत जन औषधि सुविधा सेनिटरी नैपकीन (जेएएसएसएन) के माध्यम से सेनिटरी नैपकीन की बिक्री की गई। उन्होंने बताया कि देशभर के 37 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में से 2021-22 में तमिलनाडु में 1 करोड़ 48 लाख 78 हजार 335, आंध्र प्रदेश में 1 करोड़ 16 लाख 80 हजार 448, ओडीशा में 5827548, पश्चिम बंगाल में 3329204,लाभार्थियों ने योजना का लाभ लिया। गुजरात में 96685, मध्य प्रदेश में 21501, राजस्थान में 314, तेलंगाना में 113, मेघालय में 20, सिक्किम में 2 लाभार्थियों ने योजना का लाभ लिया।
Menstrual hygiene scheme मासिक धर्म स्वच्छता योजना के लाभार्थियों में भारी कमी
Menstrual hygiene scheme मासिक धर्म स्वच्छता योजना के लाभार्थियों में भारी कमी
10 राज्यों में किसी को नहीं मिला लाभ

अभी तक अंडमान और निकोबार, अरुणाचल प्रदेश, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, लद्दाख, लक्षदीप, पुद्दुचेरी सहित 10 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में एक ने भी योजना का लाभ नहीं लिया।
एमएचएस के तहत वर्षवार लाभार्थी

वर्ष लाभार्थी

2018-19 88,92,244
2019-20 2,72,99,728
2020-21 8,74,71,580
2021-22 11,28,20,604
2022-23 3,80,48,428

2021-22 में शीर्ष 5 राज्य

तमिलनाडु 14878335
आंध्र प्रदेश 11680448
ओडीशा 5827548
पश्चिम बंगाल 3329204
हिमाचल प्रदेश 1508814
एक रुपए में नैपकिन

इस योजना के तहत सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता (आशा) की ओर से किशोरियों-महिलाओं को 6 सेनेटरी नैपकिन का एक पैकेट 6 रुपए की रियायती दर पर उपलब्ध कराया जाता है। इसके अलावा देशभर में 8700 से अधिक जनऔषधि केंद्र सुविधा नामक ऑक्सो-बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन 1 रुपए प्रति नैपकीन की कीमत पर बेच रहे हैं।
सबसे पहले की सेनेटरी नैपकीन वेंडिंग मशीन लगाने की शुरुआत

अखिल भारतवर्षीय माहेश्वरी महिला संगठन की संचारिका समिति की प्रभारी व समाधान एक पहल अभियान की प्रमुख रहीं उर्मिला कलंत्री ने बताया कि संगठन की ओर से जरूरतमंदों के लिए सबसे पहले सेनेटरी नैपकीन वेंडिंग मशीन लगाने की शुरुआत की गई थी। देशभर में संगठन के 27 राज्यों व नेपाल में 2018 में सबसे पहले 1600 से अधिक लगाकर विश्व रेकॉर्ड बनाया गया था। अब करीब 2 हजार मशीन कार्यरत हैं। स्थानीय स्तर पर नैपकीन निर्माताओं से मशीन में नैपकीन उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। शहरों में कालेज, कार्यालय, गांवों में जरूरत के हिसाब से संगठन की इकाइयों की मदद से मशीन लगाई जा रही है।
जागरुकता अभियान में लाए तेजी

पहले गांवों में जागरुकता अभियान के जरिए किशोरियों को सेनेटरी नैपकीन के फायदे बताए गए थे, इस कारण लाभार्थियों की संख्या ज्यादा थी। गांवों में योजना के प्रति जागरुकता में कमी एक कारण हो सकता है। जागरुकता अभियान में तेजी लाने की जरूरत है।
- डॉ. हसमुख अग्रवाल, स्त्री रोग विशेषज्ञ, अहमदाबाद

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

सलमान रुश्दी पर हमला करने वाले की ईरान ने की तारीफ, कहा - 'हमला करने वाले को एक हजार बार सलाम'58% संक्रामक रोग जलवायु परिवर्तन से हुए बदतर: प्रोफेसर मोरा ने बताया, जलवायु परिवर्तन से है उनके घुटने के दर्द का संबंध14 अगस्त स्मृति दिवस: वो तारीख जब छलनी हुआ भारत मां का सीना, देश के हुए थे दो टुकड़ेआरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का बड़ा बयान, बापू की छोटी सी भूल ने भारत के टुकड़े करा दिएHimachal Pradesh: जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने पर होगी 10 साल की जेल, लगेगा भारी जुर्मानाDGCA ने एयरपोर्ट पर पक्षियों के हमले को रोकने के लिए जारी किया दिशा-निर्देश'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नाम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.