कॉल सेंटर चलाने वाले चार गिरफ्तार

कॉल सेंटर चलाने वाले चार गिरफ्तार

Nagendra Singh | Publish: Feb, 03 2018 11:13:06 PM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

ऋण व बीमा का झांसा देकर अमरीका के लोगों को लगाते थे चपत

अहमदाबाद. मिर्जापुर कोर्ट के पास स्थित कामा कॉमर्शियल सेंटर में चल रहे अवैध कॉल सेंटर पर दबिश देकर पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। इस कॉल सेंटर को चलाने वाले मुख्य सूत्रधार को भी पकड़ा है।

क्राइम ब्रांच ने सूचना के आधार पर यहां दबिश दी। मौके से सीपीयू, राउटर, मैजिक जेक डिवाइस, मोबाइल फोन जप्त किए हैं। गिरफ्तार आरोपियों में मुख्य आरोपी अब्दुल लतीफ शेख, डेनी बालोटिया, सुनील कुमावत, आकाश कनोजिया शामिल हैं।

 

Accused

प्राथमिक जांच में सामने आया कि आरोपी मिली हुई लीड के आधार पर अमरीका के लोगों को फोन करते थे। ईमेल भी भेजते थे। इसमें उन्हें ऋण देने एवं इंश्योरेंस देने की लुभावनी योजनाएं बताते। इसके लिए तैयार होने वाले अमरीकी व्यक्ति से उसकी ऋण भरने की क्षमता जानने के लिए उससे १०० व २०० डॉलर आईटयून या फिर मनीग्राम के जरिए मंगाते। इतने डॉलर देने वाले से ऋण के इंश्योरेंस के नाम पर वापस १५० डॉलर के आईट्यून भेजने को कहते थे।

यदि इस पद्धति से व्यक्ति दोबारा पैसे ना दे तो उनके ई- मेल आईडी को लेकर उस पर बैंक की एप्लीकेशन के माध्यम से फर्जी डॉक्यूमेंट तैयार करके चेक जमा होने की एंट्री की डिटेल भेजते थे। ऐसा करके जितने रुपए का फर्जी डॉक्यूमेंट का चेक बैंक के जरिए भेजा होता उतने रुपए का आईट्यून कार्ड नंबर देने को कहते थे। ऐसा करके यह शातिर आरोपी न सिर्फ अमरीकी लोगों को चपत लगा रहे थे। बल्कि अमरीका की कई बैंकों को भी चपत लगा चुके हैं।


अमरीकी लोगों को फोन करने के लिए यह मैजिक जेक का उपयोग करते थे। इसके जरिए फोन करने के दौरान अपनी असली पहचान छिपाते थे और अमरीका में जैसा लोगों का नाम होता था वैसे ही नाम से अपना परिचय देते थे। लोगों का विश्वास जीतने के लिए स्पीडी केस एवं सिटी फायनांशियल कंपनी के फर्जी दस्तावेज तैयार करके उन्हें भेजते थे।

accused
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned