राजकोट में मूंगफली के बाद अब जीरा घोटाला

बैंक से 4.45 करोड़ की धोखाधड़ी, 16 पर मामला दर्ज

By: Rajesh Bhatnagar

Published: 19 Jan 2019, 11:56 PM IST

राजकोट. जिले में हाल ही मूंगफली के विवादास्पद घोटाले के बाद अब जीरा घोटाला उजागर हुआ है। बैंक के साथ 4.45 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी करने पर 14 किसानों सहित 16 जनों के विरुद्ध गोंडल सिटी थाने में मामला दर्ज किया गया है।
सूत्रों के अनुसार राजकोट में यूनिवर्सिटी रोड पर पंचायत नगर निवासी व त्रिकोण बाग में करूर वैश्य बैंक की मुख्य शाखा के प्रबंधक चंद्रेश छोटालाल बलदेव ने इस संबंध में मामला दर्ज करवाया है। शिकायत के अनुसार स्टार एग्रो वेयर हाऊस कंपनी के जिम्मेदार अधिकारियों व कर्मचारियों के अलावा 14 किसानों को आरोपी बनाया गया है।
जानकारी के अनुसार गोंडल के भंगडा गांव निवासी परबत बरवाडिया, वशराम पोपट बरवाडिया, आणंद जिले की खंभात तहसील के गलियाणा गांव निवासी राजेंद्र राहुल सिणोल, बलवत राहुल सिणोल, अजीतसिंह राहुल सिणोल, दशरथसिंह भूरा सिणोल, भरतसिंह घनश्याम सिणोल, सूरत के कामरेज निवासी कन्हैयालाल दलसुख पंचाल, महेश अंबालाल पंचाल, राजकोट जिले के जसदण निवासी परसोत्तम जीवा सावलिया, शिवराजपुर निवासी किशोर करसन वेकरिया, षडयंत्र रचने में सांठगांठ करने वाले जसदण निवासी कल्पेश जयन्तीभाई वघासिया, गलियाणा निवासी प्रवीण दलसुख पंचाल, जिगर प्रवीण मिस्त्री, राहुल परसोत्तम सावलिया को आरोपी बनाया है।
शिकायत के अनुसार राजकोट में त्रिकोण बाग स्थित करूर वैश्य बैंक की मुख्य शाखा से किसानों के नाम पर 4,45,16,901 रुपए का ऋण लिया गया। ऋण मंजूर होने के बाद गारंटी में गोंडल के घोघावदर रोड पर नरसी कानजी कापडिय़ा के गोदाम में रखा गया जीरा दिखाया गया। किसानों के साथ सांठगांठ कर जसदण के कल्पेश जयन्तीभाई वघासिया व राहुल परसोत्तम सावलिया ने जिगर प्रवीण मिस्त्री के साथ मिलकर षडयंत्र रचा।
बैंक में गिरवी रखा जीरा व उसकी गुणवत्ता की जांच करने के लिए सिल्वर एग्री एक्सपोर्ट कंपनी व स्टार एग्री वेयर हाऊस के जिम्मेदार अधिकारियों को नियुक्त किया गया। उन्होंंने सांठगांठ रचकर 4.45 करोड़ रुपए का बैंक गारंटी में रखा जीरा दिखाकर बैंक से धोखाधड़ी की। इस दौरान बैंक में ऋण की किश्तों का भुगतान ना करने पर जांच के दौरान किसानों के साथ सांठगांठ कर करूर वैश्य बैंक से धोखाधड़ी का खुलासा हुआ।
इस प्रकरण में स्टार एग्री वेयर हाऊस के जिम्मेदार अधिकारियों व कर्मचारियों के अलावा बैंक के लिए क्वालिटी मैनेजमेंट व गारंटी का काम करने वाली निजी कंपनी सिल्वर एग्री एक्सपोर्ट के साझेदार जिगर प्रवीण मिस्त्री की भूमिका का भी खुलासा हुआ है। राजकोट ग्रामीण पुलिस की स्थानीय अपराध शाखा (एलसीबी) को इस प्रकरण की जांच सौंपी गई है।

Rajesh Bhatnagar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned