हिम्मतनगर. साबरकांठा जिला मुख्यालय हिम्मतनगर के पास इडर के पोलो का जंगल क्षेत्र इन दिनों हरितीमा की चादर ओढ़े हुए है। यहां पर प्राकृतिक झरना है वहीं कुछ छोटी-छोटी नदियां भी हैं।
जंगल क्षेत्र में राजा के समय की छतरियां भी हैं। इसी जगह पर चौसिंगा (हॅान्र्ड एंटीलोप) जैसे लुप्तप्राय वन्य प्राणी अपने दर्द को बयां करता भी दिखता है। इस पोस्टर में कहा गया है कि वह लुप्त होने की कगार पर है और उस उसके परिवार के साथ रहने दो। हालांकि इस जगह के प्रचार प्रचार के लिए अहमदाबाद, सूरत, राजकोट जैसे शहरों में इसका प्रचार-प्रसार किया जाए तो पर्यटकों को आकर्षित किया जा सकता है। यहां पर एक डैम भी है जिस पर जाने के लिए प्रशासन ने रोक लगा रखी है। इस पर यदि रोक हटाई जाए तो यहां पर पहुंचा जा सकता है जिससे यह स्थल पिकनिक स्पॉट हो सकता है। वैसे भी गुजरात में हिल स्टेशनों की संख्या कम है। ऐसे में पहाड़ों से घिरा हुआ यह इलाका गुजरात के पर्यटन में चार चांद लगा सकता है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned