scriptKeyhole, Congenital Porto-Systemic Shunts, UN Mehata hospital | Ahmedabad : सात वर्ष का बालक अशुद्ध रक्त परिभ्रमण की समस्या से मुक्त | Patrika News

Ahmedabad : सात वर्ष का बालक अशुद्ध रक्त परिभ्रमण की समस्या से मुक्त

यूएन मेहता अस्पताल में एडवांस की-होल टेक्निक से किया जटिल ऑपरेशन

अहमदाबाद

Updated: October 21, 2021 10:19:40 pm

अहमदाबाद. सात वर्ष के बच्चे के शरीर में अशुद्ध रक्त के परिभ्रमण की समस्या से चिकित्सकों ने निजात दिला दी। दरअसल इस बच्चे के अशुद्ध रक्त के संचार होने के कारण ऑक्सीजन का स्तर 60 से 70 फीसदी तक रह गया था। सिविल मेडिसिटी कैंपस स्थित यूएन मेहता अस्पताल में एडवांस की-होल तकनीक से ऑपरेशन बच्चे को गंभीर समस्या से मुक्ति दिला दी। लाखों रुपए में होने वाला यह जटिल ऑपरेशन स्कूल हेल्थ प्रोग्राम के अन्तर्गत निशुल्क किया गया।
महेसाणा जिले के देवर्ष पटेल (7) नामक बच्चे के शरीर में ऑक्सीजन की कमी के कारण स्थानीय अस्पतालों में संपर्क किया गया। जटिल समस्या के चलते इस बच्चे को अहमदाबाद के सिविल (मेडिसिटी) कैंपस स्थित यूएन मेहता अस्पताल भेजा गया। गहन जांच के बाद लीवर संबंधित समस्या नजर आई। जिसका असर देवर्ष के हृदय और फेफड़ों पर पहुंचने लगा था। आधुनिक तकनीक से अस्पताल में बालक को पीड़ा मुक्त किया गया।

यह थी समस्या
अस्पताल के बाल हृदय रोग विभाग के चिकित्सक डॉ. भाविक चांपानेरी ने बताया कि जांच में देवर्ष को कन्जेनाइटल पोर्टो-सिस्टेमिक शंट्स नामक बीमारी की पुष्टि हुई थी। आमतौर पर अशुद्ध रक्त लीवर शुद्ध करता है और फिर शुद्ध हुआ रक्त फेफड़े और हृदय में जाता है। किन्तु देवर्ष का मामला भिन्न था। लीवर में शुद्ध रक्त पहुंचाने वाली नली और हृदय में शुद्ध रक्त पहुंचाने वाली नली के बीच एबनॉर्मल कनेक्शन था, जिससे अशुद्ध हुआ रक्त मार्ग बदलकर हृदय और फेफड़े में पहुंचता था। इसके कारण फेफड़े की नली चौड़ी होती गई और बच्चे के शरीर में ऑक्सीजन की कमी आने लगी थी। स्थिति यह थी कि समय रहते उपचार नहीं किया जाता तो मौत भी हो सकती थी।
Ahmedabad : सात वर्ष का बालक अशुद्ध रक्त परिभ्रमण की समस्या से मुक्त
Ahmedabad : सात वर्ष का बालक अशुद्ध रक्त परिभ्रमण की समस्या से मुक्त
टांके और बाइपास सर्जरी की भी नहीं हुई जरूरत
डॉ. भाविक चांपानेरी ने बताया कि चिकित्सकों की टीम ने बच्चे का ऑपरेशन एडवांस की-हॉल पद्धति से करनेका निर्णय किया। इस तकनीक की मदद से मेटल डिवाइस का उपयोग किया गया। ऐसे मामलों में सर्जरी करने के बाद हॉल को बंद भी करने की जरूरत होती है। चिकित्सकों का कहना है कि बिना टांके लिए या ऑपन सर्जरी के बिना ही यह उपचार सफलता पूर्वक कर दिया गया। इस तकनीक के माध्यम से हाथ, पैर या गले की नस से होकर खामीयुक्त भाग तक डिवाइस पहुंचाया जाता है। फिलहाल बालक की हालत ठीक हो गई और उसे छुट्टी भी दे दी गई। स्कूल हेल्थ प्रोग्राम के अन्तर्गत इस अस्पताल में 11 हजार से अधिक बच्चों का निशुल्क उपचार किया जा चुका है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE : राष्ट्र के नाम संबोधन में बोले राष्ट्रपति कोविंद - कोविड नियमों का पालन करना ही राष्ट्र धर्मRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीकोरोना पॉजिटिविटी दर में उतार-चढाव जारी, मिले नए 427 केसUP Assembly elections 2022 : 'मुस्लिमों को पिछड़ा बनाने के लिए सरकारें दोषी, बच्चों को हासिल करवाओं तालीम'स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.