Railway news: वडोदरा से केले लेकर रवाना हुई किसान रेल

वडोदरा मंडल की पहली किसान रेल

By: Pushpendra Rajput

Updated: 19 Jun 2021, 10:08 PM IST

वडोदरा. ऐसे कृषि उत्पाद (agri product) जो जल्दी खराब होते हैं उन उत्पादों को अंतरराज्यीय बाजार तक पहुंचाने के लिए वडोदरा मंडल ने किसान रेल की पहल की है। इसके जरिए न सिर्फ किसानों के कृषि उत्पाद अंतरराज्यीय बाजार में शीघ्र पहुंच सकेंगे बल्कि उन्हें बेहतर दाम भी उपलब्ध होंगे।

पश्चिम रेलवे के वडोदरा मंडल ने स्थानीय किसानों के लिए गुरुवार को वडोदरा से दिल्ली के लिए पहली किसान रेल चलाई है। किसान रेल कृषि उत्पादों विशेषकर जल्दी- खराब होने वाले फलों-सब्जियों को कम दर पर पहुंंचाने और उचित मूल्य दिलाने में मददगार बनेगी। इसके चलते ही पश्चिम रेलवे के वडोदरा मंडल ने वडोदरा से दिल्ली के लिए 20 डिब्बों वाली पहली किसान रेल के ज़रिए लगभग 194 टन केले भेजे हैं।

यह पश्चिम रेलवे के मुंबई एवं रतलाम मंडलों से चीकू, प्याभज एवं आलू भेजने के लिए चलाई गई किसान रेलों के अतिरिक्त एक अन्य किसान रेल है। पश्चिम रेलवे के वडोदरा मंडल की बिजनेस डवलपमेंट यूनिट के निरंतर प्रयासों से यह उपलब्धि हासिल हुई है। इस वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल से 15 जून, के बीच पश्चिम रेलवे ने अपनी 63 किसान रेलों के ज़रिये 14200 टन से अधिक कृषि उत्पोदों का परिवहन किया। यह उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी में पश्चिम रेलवे की गुड्स एवं पार्सल स्पेशल ट्रेनों के साथ-साथ किसान रेलों ने देश भर में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की गई।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned