92 वर्ष के मरीज का सफलतापूर्वक नी रिपलेसमेंट

92 वर्ष के मरीज का सफलतापूर्वक नी रिपलेसमेंट

Omprakash Sharma | Publish: Sep, 12 2018 10:47:04 PM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

हृदय संबंधित बीमारियों के बीच भी...

अहमदाबाद. हृदय संबंधित बीमारियों के बीच भी ९२ वर्षीय एक मरीज का सफलतापूर्वक 'नी रिपलेसमेंट' किया गया है। चिकित्सकों के अनुसार मरीज का हृदय की पद्धति १५ से २० फीसदी ही काम कर रही है। यह ऑपरेशन शहर के एस.जी. रोड स्थित एशियन बैरियाट्रिक्स अस्पताल में पिछले दिनों किया गया। दावा किया है कि यह ऑपरेशन अपने आप में प्रथम है।
नी रिपलेसमेंट करने वाले चिकित्सक डॉ.धीरज मरोठी जैन ने बताया कि हृदय की काम करने की कम क्षमता के कारण इस मरीज का नी रिप्लेसमेंट करना काफी जटिल था। हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. मुकेश लड्ढा, एनेस्थोलोजिस्ट डॉ. योगेश टांक, शिवानी ककरू एवं अन्य कुशल चिकित्सकों की मदद से यह ऑपरेशन सफल हो गया। डॉ. धीरज का दावा है कि इस मरीज को बिना टांके के यह नी रिप्लेसमेंट किया गया है जो संभवत: देश में पहला है। उन्होंने मरीज को केथेटर का उपयोग भी नहीं किया। हाल में मरीज की हालत ठीक बताई गई है। मरीज के दूसरे घुटने की सर्जरी दीपावली के बाद की जाएगी।
डॉ. धीरज मारोठी जैन, एमएच (ऑर्थो) ने कहा, "यह उच्च जोखिम वाले मामलों में से एक था। केवल 15-20 फीसदी हृदय काम कर रहा था। साथ ही पैर धनुष आकार के हो गए। गंभीर ऑस्टियोआर्थराइटिस, और अन्य जटिलताओं के कारण ऑपरेशन करना काफी कठिन था। अधिक आयु के कारण रक्तचाप भी कम होने की आशंका थी। लेकिन कुशल टीम के रहते यह ऑपरेशन संभव हो सका था। अस्पताल में आधुनिक संसाधनों और ऑपरेशन थिएटर का होना भी जरूरी है जो थे। मरीज को पहले बाइपास सर्जरी और बाद में स्टेंट भी डाला चुका था। दावा किया है कि यह ऑपरेशन अपने आप में प्रथम है।
एशियन बैरियाट्रिक्स अस्पताल के चेयरमैन महेन्द्र नरवारिया एवं वाइस चेयरमैन डॉ. संजय पोटलिया के अनुसार अब अस्पताल में नी रिपलेसमेंट भी किया जाने लगा है। इसके लिए डॉ. धीरज मरोठी जैसे कई कुशल चिकित्सक अस्पताल में उपलब्ध हैं।

Ad Block is Banned