वडोदरा के अस्पतालों में दूर होगी ऑक्सीजन की कमी

जीएसएफसी के ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण

By: Rajesh Bhatnagar

Updated: 03 May 2021, 12:02 AM IST

वडोदरा. कोविड के विशेषाधिकारी डॉ. विनोद राव, जिला कलक्टर शालिनी अग्रवाल, ऑक्सीजन आपूर्ति के नोडल अधिकारी व जिला पुलिस अधीक्षक डॉ. सुधीर देसाई ने जीएसएफसी के ऑक्सीजन उत्पादक प्लांट का निरीक्षण किया।
उन्होंने कहा कि जीएसएफसी के ऑक्सीजन प्लांट में प्रतिदिन 10 टन ऑक्सीजन का उत्पादन किया जाता है। इसके उचित उपयोग को सुनिश्चित करने के लिए रीफिलिंग और वितरण की प्रणाली को सुव्यवस्थित किया जा रहा है।

गैस कंपनी का निरीक्षण, उत्पादन क्षमता में होगी 20 प्रतिशत वृद्धि

वडोदरा. जिले की सावली तहसील के मोकशी गांव में देवनंदन गैस कंपनी एयर सेप्रेशन यूनिट की मदद से वातावरण से सीधे ही ऑक्सीजन का उत्पादन करती है।
कोविड के विशेषाधिकारी डॉ. राव, जिला कलक्टर अग्रवाल, ऑक्सीजन आपूर्ति के नोडल अधिकारी व जिला पुलिस अधीक्षक डॉ. देसाई ने कंपनी में ऑक्सीजन उत्पादन प्रक्रिया का निरीक्षण किया। इस कंपनी की रीफिलिंग क्षमता प्रतिदिन 1 हजार जंबो सिलेंडर की है यानी लगभग 9 टन ऑक्सीजन का उत्पादन करती है।
उत्पादन वृद्धि पर कंपनी के संचालकों से परामर्श किया गया। उन्होंने एक सप्ताह में उत्पादन क्षमता में 20 प्रतिशत वृद्धि का आश्वासन दिया। कंपनी की ओर से गभग 10 डीलरों के माध्यम से अस्पतालों में ऑक्सीजन के परिवहन और वितरण पर भी चर्चा की गई।

अस्पतालों में ऑक्सीजन की तत्काल कमी से बचने के उपायों पर चर्चा

वडोदरा. डॉ. राव, अग्रवाल व डॉ. देसाई ने सावली तहसील के मंजूसर जीआईडीसी में शक्ति गैस एजेंसी का निरीक्षण किया और अस्पतालों में ऑक्सीजन की तीव्र कमी से बचने के उपायों पर संचालकों के साथ परामर्श किया।
यह इकाई वडोदरा में जामनगर की रिलायंस कंपनी से प्रतिदिन 55 से 60 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति करती है। संचालकों ने 1.5 करोड़ रुपए अनुमानित लागत से 4 पोर्टा क्योज और 70 ड्यूरा सिलेंडरों की मदद से वितरण प्रणाली को मजबूत करने के लिए सहमति जताई।

Rajesh Bhatnagar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned