गुजरात हाईकोर्ट ने गठित की वैज्ञानिकों की समिति, तीन महीने में पेश करनी होगी रिपोर्ट

गुजरात हाईकोर्ट ने गठित की वैज्ञानिकों की समिति, तीन महीने में पेश करनी होगी रिपोर्ट

Uday Kumar Patel | Publish: May, 17 2019 11:28:06 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

-भावनगर जिले में कृषि जमीन पर चूना पत्थर की खनन की मंजूरी के परिणाम-दुष्प्रभाव

 

अहमदाबाद. गुजरात उच्च न्यायालय ने भावनगर जिले की तलाजा तहसील के कुछ गांवों में खेती की जमीन पर चूना पत्थर के क्षेत्र में खनन की मंजूरी देने के परिणाम व दुष्प्रभाव के बारे में जानने को लेकर तीन वैज्ञानिकों की समिति गठित की है। जाने-माने तीन वैज्ञानिकों की इस समिति से तीन महीने में रिपोर्ट पेश करने को कहा गया है। समिति को इस मुद्दे की निष्पक्ष रूप से जांच करनी होगी। समिति के तीन वैज्ञानिकों में कपिल शाह, डॉ. जी वी रामाजनेयूलू और डॉ अरूण दवे शामिल हैं।
न्यायाधीश सोनिया गोकाणी ने तीन जाने-माने वैज्ञानिकों की इस समिति से तीन महीने में रिपोर्ट पेश करने को कहा है। साथ ही न्यायालय ने इस समिति के कार्य में राज्य सरकार से जरूरी मदद करने के भी निर्देश दिए हैं।
किसानों की ओर से चूना पत्थर के खनन के लीज को लेकर दीर्घकालीन प्रभाव के गंभीर आरोप लगाए गए हैं। न्यायालय ने खनन का विरोध करने वाले प्र्रदर्शनकारी किसानों को पुलिस हिरासत में प्रताडि़त किए जाने के मामले की जांच सीआईडी क्राइम को सौंपी है।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned