आपात स्थिति से निपटने को फायर ब्रिगेड में लाइव निगरानी

गुजरात में पहली बार वडोदरा शहर में अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग शुरू

By: Rajesh Bhatnagar

Published: 15 Jun 2021, 11:12 PM IST

जफर सैयद
वडोदरा. शहर के फायर ब्रिगेड विभाग में अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग शुरू किया गया है। इसके तहत शहर में आपातकालीन स्थिति से निपटने व लाइव मॉनिटरिंग (जीवंत निगरानी) के लिए 7.50 करोड़ रुपए के खर्च से दमकल स्टेशन, दमकल वाहन के अलावा घटनास्थल का लाइव मॉनिटरिंग करने के लिए नियंत्रण कक्ष की व्यवस्था की गई है। इनके अलावा शहर के आस-पास के जलाशयों के जलस्तर की जानकारी भी अधिकारियों को लाइव मिल सकेगी।
स्मार्ट सिटी के तहत पिछले वर्ष 7.50 करोड़ रुपए के खर्च से वडोदरा शहर के फायर ब्रिगेड विभाग को स्मार्ट बनाने की परियोजना शुरू की गई थी। इसके तहत दांडिया बाजार, वडीवाडी, टीपी 13, गाजरावाड़ी, पाणीगेट, जीआईडीसी, दरजीपुरा इआरसी फायर स्टेशन को नियंत्रण कक्ष के 101 नंबर से जोड़ा गया है।
प्रत्येक फायर स्टेशन व फायर इंजिनों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। बदामडी बाग स्थित सीसीसी सेंटर पर वीडियो वॉल बनाई गई है। इस पर लाइव स्ट्रिमिंग दिखाई देगी। शार्टकट रास्ते से तुरंत घटनास्थल पर पहुंचने के लिए दमकल वाहनों में लोकेशन दर्शाने वाला विशेष प्रकार के उपकरण (डिवाइस) लगाए गए हैं।

दमकल के 9 वाहनों पर जीपीएस व वाटर लेवल सेंसर लगाए

इनके अलावा दमकल के 9 वाहनों पर जीपीएस व वाटर लेवल सेंसर लगाए गए हैं। आग लगने के आपातकालीन समय टैंकर में पानी के स्तर की जानकारी हासिल करने के लिए वाटर लेवल सेंसर उपयोगी साबित होंगे। आधुनिक तकनीक के चलते रात के समय आपातकालीन संदेश सीधे ही अधिकारियों के मोबाइल फोन पर पहुंच सकेंगे, इस कारण समय की बचत होगी। इस परियोजना में विश्वामित्री नदी, आजवा डैम आदि के जलस्तर को मापने के लिए 10 वाटर लेवल रखने की योजना बनाई गई है।
इनमें से 9 वाटर लेवल सेंसर कार्यरत हो चुके हैं। इनमें विश्वामित्री नदी का जलस्तर मापने के लिए नया सिस्टम शुरू किया है। इस कारण महानगर पालिका के नियंत्रण कक्ष सहित अधिकारियों के मोबाइल फोन पर जलस्तर की जानकारी मिलेगी।
आजवा सरोवर, कालाघोडा ब्रिज, अकोटा ब्रिज, आसोज फीडर, मुज महुडा ब्रिज, नरहरि ब्रिज, प्रतापनगर डैम, रात्रि बाजार ब्रिज, समा हरणी ब्रिज सहित 9 स्थानों पर वाटर लेवल सेंसर कार्यरत किए हैं। इनके चलते बाढ़ के समय लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजने की पूर्व योजना तैयार की जा सकेगी।

केवल प्रशिक्षण व जांच शेष : भट्ट

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के निदेशक मनीष भट्ट के अनुसार वडोदरा के दमकल विभाग को आधुनिक तकनीक से जोडऩे का 98 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है। अब दूसरे चरण में अंतिम जांच व दमकल टीमों को दो दिन के प्रशिक्षण का कार्य शेष है, यह कार्य इस सप्ताह पूरे कर लिए जाएंगे।

Rajesh Bhatnagar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned