विधायक मेवाणी को फिर से मिली धमकी

उसी नंबर से आया फोन कहा परिणाम का इंतजार करो

By: nagendra singh rathore

Published: 07 Jun 2018, 10:37 PM IST

अहमदाबाद. वडगाम के विधायक व दलित नेता जिग्नेश मेवाणी को एक बार फिर से धमकी मिली है। बुधवार दोपहर को जिस नंबर से फोन कर उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई थी, उसी नंबर से गुरुवार को भी उन्हें फोन आया और फिर से धमकाया गया।
यह फोन मेवाणी के साथी कौशिक परमार के पास आया जिसके पास मेवाणी का मोबाइल रहता है। गुरुवार को मोबाइल फोन पर कॉल आया। फोन करने वाले ने कहा कि 'लल्लू-पंजू समझा है क्या, परिणाम का इंतजार करो..' । इस बात की जानकारी ारी मेवाणी ने गुरुवार को ट्विट के जरिए दी। कौशिक की ओर से फोन की रिकॉर्डिंग भी पुलिस को उपलब्ध कराई गई है।
इससे पहले भी बुधवार दोपहर को पहले ऑस्ट्रेलिया के रवि पुजारी के नाम से दो बार फोन किया गया। इसके बाद एक अन्य नंबर से राजवीर मिश्रा के नाम से फोन कर मेवाणी को जान से मारने की धमकी दी गई। इस मामले की प्राथमिकी भी उनके साथी कौशिक परमार ने वडगाम थाने में दर्ज कराई है।

यह फोन मेवाणी के साथी कौशिक परमार के पास आया जिसके पास मेवाणी का मोबाइल रहता है। गुरुवार को मोबाइल फोन पर कॉल आया। फोन करने वाले ने कहा कि 'लल्लू-पंजू समझा है क्या, परिणाम का इंतजार करो..' । इस बात की जानकारी ारी मेवाणी ने गुरुवार को ट्विट के जरिए दी। कौशिक की ओर से फोन की रिकॉर्डिंग भी पुलिस को उपलब्ध कराई गई है।
इससे पहले भी बुधवार दोपहर को पहले ऑस्ट्रेलिया के रवि पुजारी के नाम से दो बार फोन किया गया। इसके बाद एक अन्य नंबर से राजवीर मिश्रा के नाम से फोन कर मेवाणी को जान से मारने की धमकी दी गई। इस मामले की प्राथमिकी भी उनके साथी कौशिक परमार ने वडगाम थाने में दर्ज कराई है।
सुरक्षा की मांग
इस बीच गुरुवार दोपहर दलित समाज के लोगों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं ने गांधीनगर में राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) शिवानंद झा को ज्ञापन सौंपकर मेवाणी को वाई श्रेणी की सुरक्षा उपलब्ध कराने की मांग की है।

nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned