मोरबी : खुद से ज्यादा बच्चियों के जीवन की चिंता थी : जाडेजा

मोरबी : खुद से ज्यादा बच्चियों के जीवन की चिंता थी : जाडेजा
Bravery of policeman in morbi

Gyan Prakash Sharma | Updated: 14 Aug 2019, 10:09:27 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

पुलिसकर्मी की बहादुरी, पानी में फंसी दो बच्चियों को कंधों पर बिठाकर कराया था नाला पार

 

राजकोट. खुद से ज्यादा बच्चियों के जीवन की चिंता थी और उन्हें बचाना मेरी ड्यूटी थी। माताजी के आशीर्वाद से इसमें सफलता मिली और दोनों बच्चियों को सुरक्षित पानी से बाहर निकालना बड़ी खुशी थी। यह कहना है टंकारा थाने के कांस्टेबल पृथ्वीराज सिंह जाड़ेजा का। उन्होंने मोरबी में भारी बारिश में फंसी दो बच्चियों को कंधों पर बिठाकर सुरक्षित नाला पार कराया था।
गत शनिवार एवं रविवार को भारी बारिश के कारण मोरबी जिले में जल भराव की स्थिति पैदा हो गई थी। टंकारा के निकट कल्याणपुर के पास नाले में भरे पानी में फंसे लोगों को बचाने के लिए टंकारा पुलिस थाने की टीम पहुंची थी। ऐसे में पानी के तेज बहाव के बीच पुलिस कांस्टेबल जाड़ेजा ने दो बच्चियों को कंधों पर बिठाया और तेज बहाव के बीच ८०० मीटर का अंतर काटकर दोनों को सुरक्षित निकाला। उनके बचाव व राहत कार्य का यह वीडियो सोशल मीडिया पर खासा वायरल हुआ था, जिसे लोगों ने पसंद भी किया।
जाड़ेजा का कहना है कि पानी में फंसे लोगों को बाहर कैसे निकाला जाए, यह दिमाग में विचार रहे थे। ४०-४२ लोग पानी में फंसे थे, जिनमें से दो बच्चियों को कंधों पर बिठाकर सुरक्षित स्थल पर पहुंचाने से मन को खुशी मिली थी।


पुलिस का सकारात्मक कार्य भी दिमाग में आएगा
टंकारा थाने के उप निरीक्षक एल.बी. बगड़ा ने कहा कि स्टाफ का यह कार्य सराहनीय है। जो लोग पुलिस को नेगेटिव (नकारात्मक) दृष्टि से देखते हैं वह लोगों के दिमाग में पुलिस का पॉजीटिव (सकारात्मक) कार्य भी आएगा।


एसपी ने किया सम्मान
मोरबी जिले में जल भराव की स्थिति में कांस्टेबल पृथ्वीराजसिंह जाड़ेजा की ओर से किए गए बचाव कार्य की सभी ने सराहना की। इस कार्य पर पुलिसकर्मी जाड़ेजा का जिला पुलिस अधीक्षक करणराज वाघेला ने मंगलवार को सम्मान किया। इस मौके पर उपाधीक्षक डी.जी. चौधरी, उपाधीक्षक बन्नो जोशी व टंकारा महिला थाने की उप निरीक्षक एल.बी. बगड़ा आदि ने सम्मान पत्र प्रदान कर जाड़ेजा के कार्य सराहना की। उल्लेखनीय है कि इस कार्य के लिए मुख्यमंत्री के अलावा उपराष्ट्रपति ने भी पिछली 12 अगस्त को ट्वीट कर जाड़ेजा की कत्र्तव्यनिष्ठा को अनुकरणीय बताया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned