बहुराष्ट्रीय सर्वेक्षण में शामिल... छह देशों के 95 फीसदी हेल्थ केयर वर्कर्स ने कोविड वैक्सीन लेने की जताई इच्छा

वैक्सीन को माना सुरक्षित

 

 

By: Omprakash Sharma

Updated: 15 Jun 2021, 09:33 PM IST

अहमदाबाद. एशिया के छह देशों के हेल्थ केयर वर्कर्स को शामिल कर हाल ही में किए गए एक सर्वेक्षण में 95 फीसदी ने कोविड-19 की वैक्सीन लेने की इच्छा व्यक्त की है। बहुराष्ट्रीय सर्वेक्षण के परिणाम को इन्टरनेशनल जर्नल ऑफ इन्फेक्शियस डिसिज (2021) में प्रकाशित किया गया है। कोविड वैक्सीन को लेकर हेल्थ केयर वर्कर्स की इच्छा जानी गई जो आम जनता में वैक्सीन के डर को निकालने के लिए महत्वपूर्ण साबित होगी।
एशिया के छह देशों के 1720 हेल्थकेयर वर्कर्स को इस सर्वेक्षण में शामिल किया गया है। इसमें वियेतनाम के 472, इन्डोनेशिया के 430, भारत के 406, चीन के 303, सिंगापुर के 161 और भूटान के 47 हेल्थ केयर वर्कर्स हैं। इन स्वास्थ्य कर्मियों की कोविड वैक्सीन की इच्छा के संबंध में जानकारी एकत्र की गई। इसका उद्देश्य कोविड-19 के संबंध में दृष्टिकोण, वैक्सीन को लेकर चिन्ता, मान्यता एवं हेल्थ केयर ऑथोरिटी में विश्वास जानना था।
नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर के प्रोफेसर विजय शर्मा, जायडस हॉस्पिटल (अहमदाबाद) के डॉ. अरविंद शर्मा एवं कल्पेश तलाटी, हैदराबाद स्थित यशोदा हॉस्पिटल के डॉ. कोमल कुमार आर.एन तथा सेंथिल हॉस्पिटल (ईरोड) की डॉ. मिनाक्षी पीवी की ओर से यह सर्वे किया गया।
अहमदाबाद के डॉ. अरविंद शर्मा एवं डॉ. कल्पेश के अनुसार सर्वेक्षण में शामिल हेल्ककेयर वर्कर्स में से 95 फीसदी ने महामारी को गंभीर मानकर वैक्सीन को सुरक्षित बताया। भारत में जिन 21 करोड़ से अधिक लोगों को टीका लगाया गया है उनमें स्वास्थ्य कर्मी बड़ी संख्या में शामिल हैं।

3.8 ने वैक्सीन की इच्छा नहीं जताई
इस सर्वे में शामिल हुए हेल्थ केयर वर्कर्स में से 3.8 फीसदी ने वैक्सीन की इच्छा नहीं जताई है। वैक्सीन लेने की इच्छा जताई है उनमें से अधिकांश के बच्चे और अन्य आश्रित हैं। जबकि जिन्होंने वैक्सीन लेने की सहमति नहीं जताई है उनमें से अधिकांश शारीरिक गतिविधियों में जुड़े हुए हैं।

Omprakash Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned