सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की नर्स की हत्या

जबरदस्ती कर चालक ने कार से फेंका, अस्पताल ले जाते समय रास्ते में मौत

By: Rajesh Bhatnagar

Updated: 15 Nov 2018, 12:30 AM IST

राजकोट. सुरेंद्रनगर जिले के सायला स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की एक नर्स से जबरदस्ती कर चालक ने कार से बाहर फेंक दिया। अस्पताल ले जाते समय रास्ते में मौत होने पर कार चालक के विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज किया गया है।
सूत्रों के अनुसार सायला स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में नर्स के तौर पर कार्यरत दीप्ति रायभण वजकाणी (28 वर्ष) दो दिन पहले अपने ससुर के गांव सायला तहसील के उमापुर गई थी। दिवाली अवकाश समाप्त होने पर उमापुर से मंगलवार सवेरे वह सायला के लिए रवाना हुई।
इस बीच, मंगलवार दोपहर में वह उमापुर-वाटावच्छ गांव के बीच वडिया तालाब के समीप मिली, उसके सिर पर चोट लगी थी। उसे सुमादड़ा व सुरेंद्रनगर के अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद अहमदाबाद ले जाया जा रहा था, साणंद के समीप उसकी मौत हो गई।
पुलिसकर्मियों को मृत्यु से पहले दिप्ती ने कार चालक वाटावच्छ गांव निवासी शांतु बावकु खाचर पर जबरदस्ती करने और चालू कार से बाहर फेंकने की जानकारी दी। पुलिसकर्मी हालांकि दीप्ति का बयान दर्ज नहीं कर सकी लेकिन जांच शुरू की है।
सूचना मिलने पर लींबड़ी के उपाधीक्षक डी.वी. बशिया सहित पुलिस अधिकारी जांच में जुटे हैं। पुलिस की जांच व मृतका के परिवारजनों के बयान के अनुसार सुरेंद्रनगर जिले की सायला तहसील के वडिया गांव निवासी हेमु चतुर कोली की पुत्री दीप्ति का विवाह उमापुर गांव निवासी रायभण भनु वजकाणी के साथ वर्ष 2011 में हुआ था।
दीप्ति को सायला के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में नर्स के तौर पर नौकरी मिली थी। उसका पति रायभण सायला में सौराष्ट्र ग्रामीण बैंक में कम्प्यूटर ऑपरेटर के तौर पर कार्यरत है। दंपती के संतान में एक पुत्र व एक पुत्री है। सायला में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के क्वार्टर में रहने वाली दीप्ति व साथ रहने वाला पति रायभण दिवाली अवकाश मनाने के लिए उमापुर गांव गए थे।
दिवाली अवकाश समाप्त होने पर पति रायभण नौकरी के लिए बाइक से सायला रवाना हुआ। इसके बाद दीप्ति भी सायला जाने के लिए मंगलवार सवेरे उमापुर पाटिया के समीप वाहन का इंतजार कर रही थी। उस समय एक कार से वहां पहुंचे शांतु बावकु खाचर ने दीप्ति को कार में बिठाया।
कार में अन्य कोई यात्री नहीं था, रास्ते में जबरदस्ती करने पर दीप्ति ने प्रतिकार किया। इस कारण नाराज होकर शांतु ने दीप्ति को चालू कार से बाहर बाहर फेंक दिया और वहां से कार सहित फरार हो गया। इस बीच, उमापुर-वाटावच्छ गांव के बीच जख्मी हालत में बेहोश मिली दीप्ति को सुदामडा व बाद में सुरेंद्रनगर के अस्पताल पहुंचाया गया।
वहां से अहमदाबाद ले जाते समय साणंद के समीप दीप्ति की मौत हो गई। मृत्यु से पहले दीप्ति ने पति को हकीकत बताई थी, उसके आधार पर सायला पुलिस थानाकर्मियों ने शांतु खाचर के विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज किया। मृतका के शव को फोरेंसिक पोस्टमार्टम के लिए राजकोट के सिविल अस्पताल पहुंचाया गया है।

Rajesh Bhatnagar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned