कसूर सिर्फ इतना कि भाजपा के सामने झुका नहीं: हार्दिक

सत्ता के सामने लडऩे का है परिणाम, हाईकोर्ट से झटका मिलने पर प्रतिक्रिया

 

अहमदाबाद. पाटीदार आरक्षण आंदोलन के जरिए देश भर में चर्चित हुए युवा पाटीदार नेता हार्दिक पटेल की याचिका को गुजरात हाईकोर्ट की ओर से खारिज कर दिया गया। इसके बाद हार्दिक पटेल की ओर से दी गई प्रतिक्रिया में उन्होंने कहा कि 'मेरा कसूर सिर्फ इतना है कि मैं भाजपा के सामने झुका नहीं। सत्ता के सामने लडऩे का यह परिणाम है।'
अपने आधिकारिक ट्विटर एकाउंट पर ट्विट के माध्यम से हार्दिक पटेल ने यह प्रतिक्रिया दी।
हार्दिक पटेल ने ट्विट करते हुए कहा कि 'हम डरने वाले नहीं हैं। सत्य, अहिंसा और ईमानदारी से आम जनता की आवाज उठाते रहेंगे। कोंग्रेस पार्टी की सरकार बनाएंगे। पार्टी के लिए गुजरात समेत पूरे देश में प्रचार करूंगा। मेरा कसूर सिर्फ इतना है कि मैं भाजपा के सामने झुका नहीं। सत्ता के सामने लडऩे का यह परिणाम हैं।'

इससे पहले किए एक अन्य ट्विट में लिखा कि 'गुजरात हाईकोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं। चुनाव तो आते हैं, जाते हैं लेकिन संविधान के खिलाफ भाजपा काम करी हैं। कांग्रेस पार्टी के पच्चीस साल के कार्यकर्ता को चुनाव लडऩे से क्यों रोका जा रहा है? भाजपा के बहुत सारे नेताओं पर मुकदमें हैं, सजा भी हैं। लेकिन कानून सिर्फ हमारे लिए है।'
हार्दिक पटेल को महेसाणा के विधायक के कार्यालय में आगजनी और तोडफ़ोड़ करने के मामले में दोषी ठहराते हुए दो साल कैद की सजा सुनाई गई है।

हार्दिक पटेल ने गुजरात हाईकोर्ट में याचिका दायर करते हुए उन्हें दोषी ठहराए जाने पर रोक लगाने और उन्हें लोकसभा चुनाव लड़ऩे की मंजूरी देने की मांग की थी। जिस याचिका को गुजरात हाईकोर्ट ने शुक्रवार को खारिज कर दिया। अब हार्दिक पटेल की ओर से सुप्रीमकोर्ट का दरवाया खटखटाने की तैयारी की जा रही है।

hardik twitt
nagendra singh rathore
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned