कृष्णमय हुआ गुजरात

कृष्णमय हुआ गुजरात

Gyan Prakash Sharma | Publish: Sep, 05 2018 03:25:10 PM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

धूमधाम से मनाई जन्माष्टमी

अहमदाबाद. जन्माष्टमी पर सोमवार को पूरा प्रदेश कान्हा की भक्ति में लीन दिखाई दिया। भगवान श्रीकृष्ण की द्वारका नगरी से लेकर डाकोर, शामळाजी समेत छोटे-बड़े मंदिरों में ‘हाथी घोड़ा पालकी, जय कन्हैया लाल..., नंद घर आनंद भयो, जय कन्हैया लाल की..’ की पूरे दिन गूंज रही।
कृष्ण मंदिरो में मध्य रात्रि को कृष्ण के बाल स्वरूप की एक झलक पाने को भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। अहमदाबाद के जमालपुर स्थित जगन्नाथ मंदिर में व भाडज स्थित हरे कृष्ण मंदिर सहित छोटे-बड़े मंदिरों में सुबह से ही कृष्ण भक्तों की भीड़ रही। उधर, डाकोर एवं द्वारका स्थित प्रसिद्ध कृष्ण मंदिरों में भक्तों का उत्साह देखते ही बन रहा था।
भीड़ को देखते हुए जहां पुलिस प्रशासन की ओर से सुरक्षा-व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए गए, वहीं दूसरी ओर मंदिर ट्रस्टों की ओर से भगवान के दर्शन की महत्वपूर्ण व्यवस्था की गई। रात बारह बजे कान्हा के जन्म के समय भक्तों ने पटाखे फोडक़र कान्हा के जन्म का पर्व धूमधाम से मनाया। जगह-जगह मटकी फोड़ कार्यक्रमों की भी धूम रही।
मंदिरों में ‘ठाकुरजी’ के व भी अलग-अलग अलग देखे गए। कहीं पीताम्बर धारण किया तो कहीं उनकी पोशाक पर आसमानी रंग छाया रहा। पंजीरी और विशिष्ट भोग सामग्री से उनकी मनुहार की गई। भक्तों ने दिनभर उपवास कर रात को प्रभु जन्म के बाद पारणा किया।

 

शामळाजी भगवान की शोभायात्रा
शामळाजी. यात्राधाम शामळाजी में सुबह से ही भक्तों की भीड़ उमडऩा शुरू हो गई, जो मंगलवार तक जारी रही। भगवान शामळिया का सोने-चांदी व हीरे के हारों से श्रृगार किया गया। गर्भगृह को फूलों से सजाया गया। मंदिर में सोने का ध्वजदंड व कलश का दान करने वाले रवि जरीवाला की ओर से शोभायात्रा निकाली गई। शिखर पर ५६ गज की ध्वजा चढ़ाई गई।

 

राजकोट में शोभायात्रा
राजकोट. विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) प्रेरित जन्माष्टमी महोत्सव समिति की ओर से ३३वीं रथयात्रा निकाली गई। धर्मसभा के शहर के मवडी चौकड़ी से निकाली गई २४ किलोमीटर सफर की शोभायात्रा में ११४ झांकियां, ३०० से अधिक छोटे-बड़े वाहन जुड़े। यात्रा का जगह-जगह स्वागत किया गया।

 

हरेकृष्ण मंदिर में एक भक्तों ने किए दर्शन :
अहमदाबाद. भाडज स्थित हरे कृष्ण मंदिर में सोमवार को एक लाख भक्तों ने भगवान के दर्शन किए। स्वर्णरथ में भगवान की शोभायात्रा निकाली गई। सात पवित्र नदियों के जल से भरे १०८ कलशों से भगवान का जलाभिषेक किया गया।

 

३ लाख भक्तों ने किए सोमनाथ के दर्शन
वेरावळ. श्रावण माह का चौथा सोमवार एवं जन्माष्टमी पर दो दिनों में करीब ३ लाख भक्तों ने सोमनाथ महादेव के दर्शन किए।
उधर, वेरावळ शहर में महाराज के डेला में जन्माष्टमी पर शोभायात्रा निकाली गई।

Ad Block is Banned