अब पेट्रोल पम्पों की डिलरशिप ऑनलाइन

ऑयल कंपनियों ने खोलेंगी 4530 पेट्रोल पम्प

By: Pushpendra Rajput

Published: 25 Nov 2018, 09:53 PM IST

अहमदाबाद. अब पेट्रोल पम्पोंं की रिटेल आउटलेट डिलरशिप वितरण की प्रक्रिया सिर्फ ऑनलाइन से होगी। इस प्रक्रिया को और पारदर्शी बनाने को इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) और हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन (एचपीसीएल) ने यह कदम उठाया है। इसके लिए बकायदा वेबसाइट बनाई गई है, जहां से रिटेल आउटलेट डिलरशिप के लिए आवेदन करना होगा। ऑयल कंपनियों की गुजरात, दादरानगर हवेली और दीव-दमण में 4530 पेट्रोल पम्प खोलने की योजना है।
ऑयल उद्योग के राज्यस्तरीय संयोजक एवं इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड- गुजरात के कार्यकारी निदेशक एस.एस. लांबा, बीपीसीएल के राज्य प्रमुख साइबल मुखर्जी, एचपीसीएल के मुख्य महाप्रबंधक राजेश मेहतानी और आईओसीएल के महाप्रबंधक वी.सी. अशोकन ने गुजरात में रिटेल आउटलेट विस्तरण योजना की जानकारी दी गई।
आईओसीएल के कार्यकारी निदेशक लांबा ने बताया कि पेट्रोल की आठ फीसदी और डीजल की चार फीसदी की दर से औसतन खुदरा बिक्री बढ़ रही है। इसके चलते ही नए राजमार्गों, ग्रामीण इलाकों और उभरते औद्योगिक इलाकों में पेट्रोल पम्प खोलने की आवश्यकता है। ग्रामीण और सुदूरवर्ती इलाकों में भी पेट्रोल पम्प खोलने की योजना है। इन पेट्रोल पम्पों के खुलने से रोजगारी के अवसर पर भी पैदा होंगे। सरकार की 'कारोबार को आसान बनाएÓ की नीति के चलते ही डिलरशिप के चयन की प्रक्रिया को आसान बनाया गया है, जिससे ऑनलाइन आवेदन करना होगा। आवेदन फार्म भी आसान है।
उन्होंने बताया कि आईओसीएल के गुजरात में 2350, , दादरा नगरहवेली में 21, दमण एवं दीव में 16 समेत 2387 नए आउटलेट खोले जाएंगे। बीपीएसएल गुजरात में 998, दादरा नगरहवेली में 8, दीव-दमण एवं 5 समेत 1011 नए आउटलेट्स खोलने की योजना है। वहीं एचपीसीएल गुजरात में 1102, दादरा नगरहवेली में 19 और दीव-दमण में 11 समेत 1132 आउटलेट्स खोलना चाहती है।

'पेट्रोल, डीजल व रसोई गैस के दामों इजाफा से घरेलू बजट बिगड़ा'
अहमदाबाद. गुजरात गैस के सीएनजी और पीएनजी की दरों में सात रुपए बढ़ोतरी किए जाने पर गुजरात कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष दोशी ने प्रतिक्रिया देते कहा कि गुजरात में 13 लाख घरेलू गैस उपभोक्ताओं पर दो रुपए बढ़ोतरी की गई है। कॉमर्शियल गैस के करीब बारह हजार यूनिटों से प्रति घनमीटर सात रुपए और सीएनजी पम्पों द्वारा 2.70 रुपए वसूला जा रहा है। केन्द्र की भाजपा नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस में बेतरतीब बढ़ोतरी की जिससे घरेलू बजट बिगड़ गया है। वर्ष 2014-15 में केन्द्र सरकार ने पेट्रोल ड्यूटी से 1 लाख 72 हजार रुपए कमाई की थी, जो अब बढ़कर दस लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि मोदी शासन में पेट्रोल में 133 फीसदी और डीजल में 433 फीसदी तक 12 बार उत्पादक शुल्क की बढ़ोतरी की गई। जबकि केरोसिन में 31.2 फीसदी तक बढ़ोतरी की गई। लोकसभा चुनाव से पूर्व प्रधानमंत्री ने दावा किया था कि100 दिनों में महंगाई हटाएंगे, लेकिन वादों से उलट अब महंगाई आसमान छू रही है। आवश्यक चीजवस्तुओं के दाम औसतन 100 से 400 फीसदी तक बढ़ गए हैं।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned