scriptPakistan, Indian fishermen, Rajya sabha, kidnapping | Fishermen: पाकिस्तान ने तीन वर्षों में पकड़े 502 भारतीय मछुआरे | Patrika News

Fishermen: पाकिस्तान ने तीन वर्षों में पकड़े 502 भारतीय मछुआरे

Pakistan, Indian fishermen, Rajya sabha, kidnapping

अहमदाबाद

Published: March 28, 2022 09:50:31 pm

अहमदाबाद. पाकिस्तान की ओर से गत तीन वर्षों में 502 भारतीय मछुआरे पकड़े गए। राज्यसभा में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी।
राज्यसभा सांसद सु. थिरुनवुक्करासर ने बंदी बनाए गए भारतीय मछुआरे के संबंध में जानकारी मांगी थी। जवाब में यह कहा गया कि 1 जनवरी 2022 को आदान-प्रदान की गई सूचियों के अनुसार पाकिस्तान ने यह स्वीकार किया है कि उसने 577 मछुआरों को हिरासत में लिया है। भारत सरकार के मुताबिक यह माना जाता है कि मछली प$कडऩे वाली 1164 भारतीय बोट पाकिस्तान के कब्जे में हैं। हालांकि पाकिस्तान ने बोट को कब्जे में लेने की बात नहीं स्वीकारी है।
गत तीन वर्षों में पाकिस्तान की ओर से पकड़े गए भारतीय मछुआरों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। इसके तहत वर्ष 2020 में 183, वर्ष 2021 में 223 और इस वर्ष अब तक 96 मछुआरे प$कड़े जा चुके हैं।
Fishermen: पाकिस्तान ने तीन वर्षों में पकड़े 502 भारतीय मछुआरे
Fishermen: पाकिस्तान ने तीन वर्षों में पकड़े 502 भारतीय मछुआरे

गुजरात के 2303 गांवों में गोचर ही नहीं

गांधीनगर. गुजरात के 9029 गांवों में न्यूनतम गोचर से कम गोचर है। वहीं राज्य में 2303 ऐसे गांव हैं जहां गोचर नहीं हैं। इन गांवों में गोचर ही नहीं है। गुजरात विधानसभा में कांग्रेस के विधायकों के सवालों पर राज्य सरकार ने ये जवाब पेश किए।
कांग्रेस विधायकों का आरोप है कि बनासकांठा के 1165 गांवों में न्यूनतम गोचर से भी कम गोचर है, जो सर्वाधिक है। वहीं वलसाड के 250 गांवों में गोचर नहीं है। गोचर नहीं होने से मवेशियों के चरने का कोई विकल्प नहीं है।
सदन में पेश जवाब में कहा गया कि गांधीनगर के 263 गांवों में न्यूनतम गोचर से भी कम गोचर है। 26 गांवों में गोचर नहीं है। राजकोट के 525 गांवों में न्यूनतम से कम गोचर है। अहमदाबाद में पचास गांवों में न्यूनतम गोचर से कम गोचर है वहीं 54 गांवों में गोचर ही नहीं है। सूरत में 222 गांवों में न्यूनतम गोचर से भी कम गोचर और 70 गांवों में गोचर नहीं है। भावनगर के 485 गांवों में न्यूनतम से भी कम और 64 गांवों में गोचर नहीं है। वडोदरा के 3 गांवों में न्यूनतम से भी कम गोचर है वहीं 7 गांवों में गोचर नहीं है। डांग जिले के 311 गांव प्रोजेक्ट फोरेस्ट और रिजर्व फोरेस्ट क्षेत्र हैं, इस कारण वहां गोचर नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

अब तक 11 देशों में मंकीपॉक्स : शुक्रवार को WHO की इमरजेंसी मीटिंग, भारत में अलर्ट, अफ्रीकी वैज्ञानिक हैरानओबीसी आरक्षण: जिला पंचायत 30, जनपद 20 और सरपंचों को 26 फीसदी आरक्षणInflation Around the World: महंगाई की मार, भारत से ज्यादा ब्रिटेन और अमरीका हैं लाचारOla-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार पर भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईसावधान! अब हेलमेट पहनने के बावजूद कट सकता है 2 हजार रुपये का चालान, बाइक चलाने से पहले जान लें नया नियमसुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंIPL 2022 RR vs CSK: चेन्नई को हरा टॉप 2 में पहुंची राजस्थान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.