ट्रेनों में महिला यात्रियों सहेली बनीं 'आरपीएफ' महिला जवान

passenger train, railway passengers, RPF woman constable, news : - "मेरी सहेली" अभियान की अनूठी पहल

By: Pushpendra Rajput

Published: 21 Nov 2020, 10:07 PM IST

पुष्पेन्द्रसिंह

गांधीनगर. ट्रेनों में (Train) सफर करने वाली महिला यात्रियों (ladies passengers) के लिए इन दिनों रेलवे सुरक्षा बल (RPF) की महिला जवान 'सहेलीÓ बनी हैं, जो ऐसी महिला यात्रियों को जागरूक कर रही हैं। सुरक्षा (safty) को लेकर मदद के लिए आरपीएफ सुरक्षा हेल्पलाइन (RPF safty helpline) नम्बर 182 और जीआरपी (GRP) की हेल्पलाइन नम्बर 1512 का उपयोग करने को लेकर समझा रही हैं। दरअसल, ट्रेनों में सफर करने वाली महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए पश्चिम रेलवे ने 'मेरी सहेलीÓ अभियान का प्रारंभ किया है।

पश्चिम रेलवे हमेशा महिला शक्ति का समर्थन और सहयोग करने के लिए अनेक अनूठी पहलों के लिए जाना जाता है। चाहे दुनिया में सबसे पहली लेडीज स्पेशल ट्रेन (special train) शुरू करने की बात हो या फिर स्टेशनों पर 'बेबी फीडिंग सेंटरÓ, सीसीटीवी कैमरे तथा ट्रेनों में टॉक-बैक सिस्टम की शुरुआ हो। पश्चिम रेलवे महिला यात्रियों को हरसम्भव बेहतरीन सुविधा मुहैया कराने को हमेशा तत्पर रही है। इसी श्रृंखला में पश्चिम रेलवे ने अब महिला यात्रियों को उनकी यात्रा के दौरान अधिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए "मेरी सहेली" नाम से एक और शानदार पहल की शुरुआत की है।

अहमदाबाद के मण्डल रेल प्रबंधक दीपक कुमार झा के अनुसार "मेरी सहेली" पहल का उद्देश्य ट्रेनों से यात्रा करने वाली महिला यात्रियों को उनकी पूरी यात्रा में गंतव्य स्टेशन तक बेहतरीन सुरक्षा प्रदान करना है। इस पहल के लिए महिला अधिकारी और कर्मचारियों की एक टीम बनाई गई है। यह टीम महिला यात्रियों की पहचान करने के लिए लेडीज कोच सहित सभी यात्री डिब्बों का दौरा करेगी। उनकी यात्रा का विवरण जैसे कोच नम्बर और सीट नम्बर टीम द्वारा नोट किया जाएगा। खासकर अगर एक महिला ट्रेन में अकेली यात्रा कर रही हो। इन महिला यात्रियों को आरपीएफ सुरक्षा हेल्पलाइन नम्बर 182, जीआरपी सुरक्षा हेल्पलाइन नम्बर 1512 और अन्य सावधानियों के बारे में जानकारी दी जा रही है। जैसे कि अजनबियों से भोजन नहीं लेने, केवल आईआरसीटीसी अधिकृत स्टॉल से भोजन खरीदने और अपने सामान की समुचित देखभाल करने के लिए उन्हें खास टिप्स दिए जायेंगे। टीम उन्हें किसी भी आपात स्थिति के लिए ट्रेन एस्कॉर्ट पार्टी से सम्पर्क करने और 182 डायल करने के लिए स्वतंत्र महसूस करने की भी सलाह देती हैं। महिला यात्रियों के विवरण से सम्बंधित मंडलों और क्षेत्रीय रेल कार्यालयों को अवगत कराया जाता है ताकि उनके अंतिम गंतव्य तक पहुंचने तक उनकी समुचित सुरक्षा मिल सके। यात्रा के अंत में, महिला यात्रियों से उनके यात्रा के अनुभव और उठाए गए सुरक्षा उपायों के बारे में प्रतिक्रिया ली जा रही है।

झा ने बताया कि पश्चिम रेलवे द्वारा यह अनूठी पहल मुख्य रूप से अहमदाबाद मण्डल पर दो ट्रेनों में शुरू की गई है, जिनमें ट्रेन नम्बर 02248 अहमदाबाद -ग्वालियर स्पेशल और ट्रेन नम्बर 02548 अहमदाबाद -आगरा कैंट स्पेशल ट्रेन शामिल हैं। "मेरी सहेली" पहल न केवल महिला यात्रियों को सुरक्षा प्रदान करेगी, बल्कि उन्हें मानसिक शांति, आरामदायक और सुखद यात्रा का अनुभव भी कराएगी।

Pushpendra Rajput Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned