Ahmedabad News : फ्रेट कॉरिडोर प्रभावित किसानों ने निकाली रैली

जीपीसीसी अध्यक्ष अमित चावड़ा के नेतृत्व में जिला कलक्टर को ज्ञापन

By: Rajesh Bhatnagar

Published: 03 Dec 2019, 12:18 AM IST

आणंद. जिले से निकलने वाले रेलवे के विशेष प्रोजेक्ट फ्रेट कॉरिडोर के लिए जमीन अधिग्रहण से प्रभावित किसानों ने गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी (जीपीसीसी) के अध्यक्ष अमित चावड़ा के नेतृत्व में सोमवार को रैली निकालकर जिला कलक्टर को ज्ञापन दिया।
शहर में अमूल डेयरी के बाहर से रैली निकालकर सभी लोग जिला कलक्टर कार्यालय पहुंचे। रेलवे कॉरिडोर के लिए जमीन अधिग्रहण से प्रभावित 31 गांवों के किसानों ने क्षतिपूर्ति के लिए अमूल डेयरी के समीप नारेबाजी कर विरोध जताया। चावड़ा व जिला पंचायत के अध्यक्ष नटवरसिंह ठाकोर के नेतृत्व में किसानों ने जिला कलक्टर दिलीप राणा को ज्ञापन दिया।
ज्ञापन के अनुसार रेलवे के विशेष प्रोजेक्ट फ्रेट कॉरिडोर के लिए 31 गांवों के किसानों की जमीन अधिग्रहित की गई है। इन किसानों को अधिक क्षतिपूर्ति चुकाने के लिए मध्यस्थ ने रेलवे की अधिग्रहण संस्था को आदेश दिया था। उसके विरुद्ध जिला न्यायालय में की गई अपील मंजूर होने पर हाईकोर्ट में अपील की। वहां से 15 प्रतिशत के बजाय 9 प्रतिशत ब्याज चुकाने का आदेश दिया गया।
चार महीने में क्षतिपूर्ति राशि चुकाकर शेष 50 प्रतिशत राशि राष्ट्रीयकृत बैंक में स्थायी जमा योजना के तहत अंतिम निर्णय तक जमा रखने का आदेश भी दिया गया। इसके विरुद्ध संस्था की ओर से सुप्रीम कोर्ट में द्वितीय अपील दायर की गई लेकिन सुनवाई के बाद अपील रद्द कर दी गई।
इसके बावजूद संस्था की ओर से जिला कलक्टर के समक्ष गलत तथ्य प्रस्तुत कर जिला मूल्यांकन समिति की ओर से दो बार तय की गई जमीन की कीमत को संशोधित करवाकर आश्वासन दिया गया कि मध्यस्थ या उच्च कोर्ट के आदेश को मान्य रखकर क्षतिपूर्ति की तय राशि चुकाई जाएगी।
यह भी कहा गया कि 10 वर्ष के लिए किसानों की जमीन अधिग्रहित की गई है और जमीन के अवार्ड के अनुरूप राशि में से अधिग्रहित जमीन की 5 प्रतिशत जमीन भी किसानों को बेचने के लिए नहीं मिली। इस कारण किसानों को खासा नुकसान हो रहा है। किसानों की ओर से जमीन पर कार्य रोकने की चेतावनी भी दी गई है।

Rajesh Bhatnagar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned