Ahmedabad News : चिकित्सक, पुलिस व शिक्षा की प्रतिष्ठा आवश्यक : रूपाणी

समाज के संतुलन के लिए...

कहा : फैमिली डॉक्टर्स समाज के लिए आशा की किरण समान

राजकोट के कॉर्डियोलॉजिस्ट की पुस्तक 'संजीवनी स्पर्श' का विमोचन

By: Rajesh Bhatnagar

Updated: 08 Dec 2019, 10:45 PM IST

राजकोट. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा है कि समाज के संतुलन के लिए चिकित्सक, पुलिस और शिक्षा की प्रतिष्ठा आवश्यक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के समय में व्यवसायीकरण के दौर में सभी रिश्ते बहस के कगार पर हैं, ऐसे में ये तीनों ही रिश्ते भाई-भतीजावाद की सुरक्षा का अनुभव करते हैं, यह सुचारू सामाजिक संचालन के लिए महत्वपूर्ण मापदंडों में से एक है।
मुख्यमंत्री ने राजकोट के एक हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश तेली की पुस्तक 'संजीवनी स्पर्श' का विमोचन करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि इस पुस्तक में मानवीय संवेदना की हिफाजत सराहनीय है, ऐसी संवेदनापूर्ण यात्रा के सृजन व समग्र समाज को इसका लाभ दिलाने के लिए मुख्यमंत्री ने डॉ. तेली की सराहना की।
फैमिली चिकित्सकों के लिए राज्य व्यापी श्रृंखला बनाने के बारे में डॉ. तेली के सुझाव पर मुख्यमंत्री ने कहा कि विशेषज्ञ चिकित्सकों के समय में भी फैमिली चिकित्सक समाज के लिए आशा की किरण के समान हैं। फैमिली चिकित्सकों के साथ निजी संबंधों से स्वास्थ्य के लिए फैमिली चिकित्सकों पर भरोसा मरीज की बीमारी ठीक होने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
'मा' योजना से जुड़े 60 लाख परिवार
रूपाणी ने जन सामान्य के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए व लोगों की स्वास्थ्य संबंधी व्यथा की व्यवस्था के लिए राज्य सरकार की ओर से लागू की गई 'मुख्यमंत्री अमृतम-माÓ योजना के मानवीय पहलुओं के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि राज्य के 60 लाख परिवार 'मा' योजना से जुड़े हैं।
लोगों के स्वास्थ्य के प्रति सामूहिक जिम्मेदारी समझें
मुख्यमंत्री ने चिकित्सकों के सामाजिक उत्तरदायित्व को स्वीकार करते हुए चिकित्सकों को उनके उमदा व्यवसाय को लांछन ना लगाने और लोगों के स्वास्थ्य के प्रति अपनी जिम्मेदारी व्यक्तिगत नहीं, बल्कि सामूहिक समझकर निभाने की सीख दी। डॉ. तेली ने पुस्तक 'संजीवनी स्पर्श' के बारे में जानकारी दी।
महापौर बीनाबेन आचार्य, सांसद मोहन कुंडारिया, विधायक गोविन्द पटेल, अरविन्द रैयाणी, जिला कलक्टर रेम्या मोहन, शहर पुलिस आयुक्त मनोज अग्रवाल के अलावा कमलेश मिराणी, नितिन भारद्वाज, अंजलीबेन रूपाणी, साध्वी डॉ. अनिता, साध्वी डॉ. सुनिता, डॉ. जयप्रकाश भट्ट, डॉ. अंतुल पंड्या, डॉ. हीरेन कोठारी, डॉ. वर्षा शाह, डॉ. मिलन चग, डॉ. अशोक रूघाणी आदि भी मौजूद थे।

Rajesh Bhatnagar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned