आरएसएस का लक्ष्य 2021 तक मंडल स्तर तक कार्य विस्तार

आरएसएस का लक्ष्य 2021 तक मंडल स्तर तक कार्य विस्तार

Rajesh Bhatnagar | Publish: Mar, 14 2018 11:27:02 PM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

गुजरात में 720 स्थानों पर 1460 शाखाओं सहित 2901 स्थानों पर गतिविधियां

अहमदाबाद. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में वर्ष 2021 तक मंडल (गांव) स्तर तक कार्य विस्तार का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। नागपुर में 9 से 11 मार्च आयोजित प्रतिनिधि सभा में वृत्त कथन में जानकारी दी गई कि गुजरात में इस वर्ष फरवरी महीने तक 720 स्थानों पर 1460 शाखाएं, 952 साप्ताहिक मिलन व 489 संघ मंडली (मासिक मिलन) सहित 2901 स्थानों पर गतिविधियां संचालित की जा रही हैं।
नागपुर में प्रतिनिधि सभा में हिस्सा लेकर व पश्चिम क्षेत्र (गुजरात, गोवा, महाराष्ट्र) के पुन: क्षेत्रीय संघचालक चयनित होकर लौटे डॉ. जयंतीभाई भाडेसिया ने यहां संवाददाता सम्मेलन में सोमवार को यह जानकारी दी।
उन्होंने बताया कि इस बार बैठक में अपेक्षितों के मुकाबले 90 प्रतिशत यानी 1538 प्रतिनिधि उपस्थित रहे। आरएसएस के अनुषांगिक संगठनों यानी संघ परिवार के 35 संगठनों के शीर्षस्थ प्रतिनधि उपस्थित थे। इस बार चार के बजाय कार्य विस्तार के लिए छह सह सरकार्यवाह बनाए गए हैं।
गुजरात में सेवा कार्य की दृष्टि से 2,442 सेवा प्रकल्प चल रहे हैं। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार केवल काश्मीर घाटी को छोड़कर देश के कुल 95 प्रतिशत जिलों, 70 प्रतिशत तहसीलों व 60 प्रतिशत मंडलों (गांवों) में आरएसएस कार्यरत है। देश में 37,190 स्थानों पर 58,967 शाखाएं, 16,405 साप्ताहिक मिलन, 7976 मासिक मिलन सहित 83,348 स्थानों पर गतिविधियां संचालित की जा रही हैं।
अनुषांगिक संगठनों की भांति डॉ. तोगडिय़ा से भी उचित व्यक्ति करते हैं बात
एक प्रश्न के उत्तर में डॉ. भाडेसिया ने बताया कि विहिप के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. प्रवीण तोगडिय़ा ने अपनी बात सरकार के समक्ष रखी है, उसकी जांच भी हो रही है। स्वयंसेवकों से आरएसएस के अधिकारी व कार्यकर्ता मुलाकात करते हैं। डॉ. तोगडिय़ा के मामले में भी जांच हुई और तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है।
संत बनाएंगे राम मंदिर , ट्रस्ट बनाकर निर्माण संभव
उन्होंने एक प्रश्न के उत्तर में बताया कि राम मंदिर निर्माण पर प्रतिनिधि सभा में कोई चर्चा नहीं हुई। सरकार्यवाह सुरेश (भय्याजी) जोशी ने पत्रकारों को बताया कि राम मंदिर बनना चाहिए और जन्मस्थान पर ही बनना चाहिए, यह मुद्दा है। प्रश्न यह है कि फिलहाल यह मुद्दा न्यायिक प्रक्रिया में है इसलिए जब तक रास्ता निकले, तब तक राह देखनी चाहिए।

RSS
Ad Block is Banned