चुन चुन कर गिनाई गालियां

गुजरात विधानसभा के पहले चरण के मतदान की पूर्व संध्या पर अहमदाबाद के निकोल में आयोजित चुनावी जनसभा में प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें बीते 17 सालों में का

By: मुकेश शर्मा

Published: 09 Dec 2017, 06:00 AM IST

अहमदाबाद।गुजरात विधानसभा के पहले चरण के मतदान की पूर्व संध्या पर अहमदाबाद के निकोल में आयोजित चुनावी जनसभा में प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें बीते 17 सालों में कांग्रेस के नेताओं की ओर से दी गई गालियों को चुनचुन कर गिनाया। इनका जबाव शनिवार और 14 दिसंबर के मतदान में भाजपा को मत देकर देने की अपील भी गुजरातवासियों से की।

पीएम नरेन्द्र मोदी ने सूरत के बाद निकोल की सभा में कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर की ओर से उन्हें ‘नीच’ कहे जाने का उल्लेख करते हुए कहा कि ऐसा कहना गुजरात की जनता का अपमान है। कांग्रेस ने भले ही मणिशंकर अय्यर को निलंबित कर दिया हो, लेकिन वह अकेले ऐसे नेता नहीं हैं जिन्होंने उन्हें गालियां दी हों।

वह मुख्यमंत्री रहे तब से लेकर प्रधानमंत्री चुने जाने तक कांग्रेस अध्यक्षा सोनियां गांधी, उपाध्यक्ष राहुल गांधी , आनंद शर्मा, दिग्विजय सिंह , मनीष तिवारी, रेणुका चौधरी, राशिद अल्वी, प्रमोद तिवारी, इमरान मसूद के नाम और उनकी ओर से दी गई गालियों को चुनचुन कर गिनाया।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेताओं ने मौत का सौदागर, खून की दलाली करने वाला, गंदा नाली का कीड़ा, चायवाला....की गालियां देकर गुजरात ही नहीं देश की जनता का भी अपमान किया है। मोदी यहीं नहीं रुके उन्होंने कांग्रेस पर गुजराती नेताओं का अपमान करने और गुजराती नेता उनकी आंखों में कंकड़ की तरह चुभते होने की बात कहते हुए कहा कि यही वजह है कि सरदार पटेल, मोरारजी देसाई और फिर अब नरेन्द्र मोदी के विरुद्ध कांग्रेस ऐसा करती है।

हार्दिक पटेल पर आचार संहिता भंग करने का मामला

आचार संहिता के दौरान आयोजित रैली में शर्तों को भंग करने को लेकर सरथाणा पुलिस ने हार्दिक पटेल के खिलाफ जीपी एक्ट की धारा ३६(क), ७२ (2) और १३४ के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। सरथाणा थाना प्रभारी आर.एल.दवे ने बताया कि पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के कन्वीनर हार्दिक पटेल ने ३ दिसम्बर को सामाजिक और शैक्षणिक जागृति वाहन रैली तथा सभा के लिए अनुमति मांगी थी। उस दौरान आचार संहिता की १४ शर्तों का पालन करने के लिए कहा गया था।

इनमें कार्यक्रम के किसी भी प्रकार से राजनीतिक उपयोग नहीं करने की बात मुख्य थी। कार्यक्रम के बाद चुनाव आयोग के पर्यवेक्षकों ने कार्यक्रम की सीडी की जांच की तो पता चला कि कार्यक्रम में शर्तों का पालन नहीं किया गया। कार्यक्रम में हार्दिक ने खुलकर भाजपा को वोट नहीं देने और भाजपा के अलावा अन्य किसी भी उम्मीदवार को वोट देने की बात कही थी। इस संबंध में चुनाव आयोग के जिग्नेश वघासिया से शिकायत मिलने पर शुक्रवार को हार्दिक पटेल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया।

BJP Congress
Show More
मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned