सुविधाएं बंद करने की धमकी देने लगे हैं निजी स्कूल

सुविधाएं बंद करने की धमकी देने लगे हैं निजी स्कूल

Nagendra rathor | Publish: Jan, 13 2018 10:21:34 PM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

निजी स्कूलों पर नहीं लग पा रही लगाम,अभिभावकों का प्रदर्शन

अहमदाबाद. गुजरात में निजी स्कूल फीस नियमन कानून-२०१७ के पारित होने के बाद से ही अभिभावकों और निजी स्कूल संचालकों के बीच तनातनी के किस्से बनने शुरू हुए हैं, जो थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। सरकार के प्राइमरी में १५, माध्यमिक में २५ और उच्चतर माध्यमिक में २७ हजार रुपए की सालाना फीस तय करने के बावजूद भी शहर व राज्य के अधिकांशत: स्कूल इससे ज्यादा फीस वसूल कर रहे हैं।
फीस वसूली में अपना मनमाना रवैया बरकरार रखने का आरोप लगाते हुए शनिवार को निकोल में वेदांत इंटरनेशनल स्कूल के बाहर अभिभावकों ने प्रदर्शन किया। नरोडा-निकोल अभिभावक एसोसिएशन के प्रतिनिधि व स्कूल के अभिभावकों ने हाथों में बैनर लेकर अपना विरोध जताया। उनके हाथों में स्कूल प्रबंधन पर ३६००० रुपए की फीस वसूलने का आरोप लगाते हुए इस फीस की विस्तृत रसीद देने की मांग के बैनर थे। इसके अलावा स्कूल की प्राचार्य पर दुव्र्यवहार करने का आरोप लगाते बैनर थे। जिसके चलते बच्चों के डरे हुए होने और प्राचार्य के इस्तीफे की मांग के बैनर थे।
उधर, स्कूल प्रबंधन की ओर से मीडिया को बताया गया है कि स्कूल प्रबंधन सरकार की ओर से तय की गई फीस के विरोध में सुप्रीमकोर्ट में गया है। सुप्रीमकोर्ट का जो फैसला आएगा और फीस निर्धारण समिति जो फीस तय करेगी उसी फीस को स्कूल प्रबंधन लेगा। यदि उनकी ओर से ली गई फीस, समिति की ओर से निर्धारित होने वाली फीस से ज्यादा होगी तो उसे लौटाया जाएगा, नहीं तो समायोजित किया जाएगा।
पत्र में सुविधाएं बंद करने की धमकी!
नरोडा-निकोल अभिभावक एसोसिएशन के गिरीश सोनी ने बताया कि वेदांत इंटरनेशनल स्कूल प्रबंधन ने अभिभावकों को पत्र भेजा है। स्कूल पर सुविधाएं बंद करने की धमकी देने का आरोप लगाते हुए कहा है कि स्कूल ने पत्र में कहा है कि सरकार की ओर से घोषित की गई फीस में सरकार की ओर से जो सुविधाएं तय की गई हैं उसके अतिरिक्त स्कूल में दी जा रही सुविधाएं बंद कर दी जाएंगीं। एक कक्षा में ६०से ज्यादा विद्यार्थी बिठाएंगे, एसी वर्गखंड की सुविधा बंद करेंगे, मिनरल वॉटर प्लांट, चिल्लर प्लांट, गुड हाऊसिंग कीपिंग, सिक्योरिटी एजेंसी जैसी सुविधाएं सरकारी नियम के तहत जरूरी नहीं होने का उल्लेख करते हुए बंद करने की धमकी दी है।

Ad Block is Banned