ट्रैक्टरों के पांच चालकों की हत्या कर चुके सीरियल किलर को सूरत से दबोचा

-10-11 वर्ष से फरार आरोपी एटीएस के हाथ लगा
-हाथ पैर बांधकर पानी में फेंक कर करते थे हत्या

By: Omprakash Sharma

Published: 26 Jun 2020, 10:35 PM IST

अहमदाबाद. गुजरात आतंक निरोधक दस्ते ( ATS ) ने पांच ट्रैक्टरों के चालकों की बेरहमी से हत्या करने वाले सीरियल किलर को सूरत से दबोच लिया। यह आरोपी इतना शातिर है कि दस वर्ष से फरार चल रहा है जो नाम और धर्म बदलकर सूरत में रह रहा था। नाम बदलकर ही उसने प्रेम विवाह भी कर लिया था, जिसकी भनक तक पत्नी को नहीं लगने दी ।

गुजरात एटीएस के पुलिस अधीक्षक दीपन भद्रन की सूचना एवं मागदर्शन में काम कर रहे पुलिस निरीक्षक सी.आर. जादव तथा आर.के. राजपूत की टीम ने पूर्व सूचना के आधार पर सूरत शहर के वेशु क्षेत्र में छापा मारा। जहां से बालासिनोर निवासी अस्लम अब्दुल करीम शेख उर्फ लालाभाई को गिरफ्तार किया है।
एटीएस के अनुसार अस्लम ने अपने साथियों के साथ मिलकर पांच ट्रैक्टरों के चालकों की बेरहमी से हत्या कर दी और ट्रैक्टरों को बेच दिया गया। श्रंखलाबद्ध रूप से ये हत्याएं की गईं थीं। इन हत्याओं के अलावा उसने अन्य कई वारदातों को भी अंजाम दिया था।

हाथ पैर बांधकर पानी में फेंक दिया जाता था चालकों को
एटीएस के अधिकारियों का कहना है कि वर्ष 2008 से लेकर 2011 तक पांच ट्रैक्टरों के चालकों की हत्या की गई थी। अस्लम अपने साथियों के साथ मिलकर मध्यगुजरात में रात को इस तरह की वारदातों को अंजाम देता था। बजरी या रेती लेकर जाने वाले ट्रैक्टर चालकों को रोककर पहले तो उनकी पिटाई की जाती थी उसके बाद हाथ पैर बांधकर कार से अपहरण कर नहरों में फेंक दिया जाता था।

इन जगहों से की गई हत्या
मध्य गुजरात में कोठंबा गांव के पास ट्रैक्टर ट्रॉली को रोककर चालक एवं क्लीनिर पर हमला कर दिया। दोनों का अपहरण कर पुल से नदी में फेंक दिया गया। दहेगाम के निकट घास भरे ट्रैक्टर ट्रॉली को रोककर चालक के साथ झगड़ा किया और फिर उससे मारपीट कर केनाल में फेंक दिया गया। शामलाजी के निकट एक ट्रैक्टर को लूटने के लिए चालक को हालोल-कलोल के निकट कैनाल में फेंक दिया गया। छोटा उदेपुर के निकट भी एक ट्रैक्टर चालक का अपहरण करने के बाद आणंद के निकट कैनल में फेंक दिया गया। इन सभी चालकों के हाथ पैर बांध कर नदी-कैनाल में फेंका गया ताकि वे निकल न सकें। इसके अलावा दस ट्रैक्टर, 12 ट्रॉली और एक मोटरसाइकिल की चोरी तथा लूट की कबूलात की है।

पेट्रोल पंप के मालिक का पुत्र है आरोपी
एटीएस के मुताबिक यह आरोपी पेट्रोल पंप मालिक का पुत्र है। उसके पिता की एक ट्रैक्टर की एजेंसी भी थी। इसके बावजूद पुत्र 25 से 30 हजार रुपयों के लिए हत्या करने लग गया था।

नाम बदल कर सूरत के अस्पतालों में करने लगा था नौकरी
शामलाजी के निकट ट्रैक्टर की लूट एवं हत्या के मामले में एक आरोपी को पकड़ लिया गया था। खुद पकड़ में न आए इस डर से असलम अजमेर भाग गया था। जहां से कुछ दिनों बाद गोवा और उसके बाद वह सूूरत पहुंच गया था। जहां कुछ दिनों तक मकान निर्माण में मजदूरी और उसके बाद अस्पतालों में नौकरी करने लग गया था। सूरत आकर उसने नाम परिवर्तन कर अस्लम से लालाभाई कमलेश पटेल रख लिया था। पिछले नौ वर्ष से वह सूरत के अलग-अलग अस्पतालों में ओटी असिस्टेंट एवं एक्सरे टैक्निशियन के रूप में नौकरी करने लग गया। पिछले डेढ़ वर्ष से वह रादेंर क्षेत्र स्थित एक निजी अस्पताल में ओटी स्टाफ के रूप में नौकरी कर रहा था। इससे पहले वह एक अस्पताल की नर्स से प्रेम विवाह भी कर चुका था और दोनों के तीन बच्चे हैं।

पत्नी को भी नहीं है सही नाम का पता
एटीएस के अनुसार अस्लम की पत्नी को भी नहीं पता है कि लालाभाई का असल नाम अस्लम है। पकड़े जाने के डर से उसने अपनी पहचान पत्नी को भी नहीं बताई थी। इस बीच एटीएस की टीम ने उसे दबोच लिया।

Omprakash Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned