अब गांव-गांव जाकर करूंगा कृषि कानूनों का विरोध-वाघेला

Shankar singh vaghela, Former CM, Sabarmati ashram, Rajghat, detained दिल्ली कूच से पहले ही वाघेला के कई समर्थकों को लिया हिरासत में, कानूनों को वापस नहीं लेने पर की थी राजघाट तक कूच और धरने की घोषणा

 

By: nagendra singh rathore

Updated: 26 Dec 2020, 08:20 PM IST

अहमदाबाद. गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री एवं केन्द्रीय मंत्री शंकर सिंह वाघेला ने कहा कि लोकतंत्र में विरोध करने का हक विपक्षी दलों को है, उन्हें ऐसा करने से रोकना अयोग्य है। वाघेला ने कहा कि उन्हें दिल्ली जाने से रोका गया तो वे गुजरात में गांव-गांव किसानों के बीच जाकर इन कानूनों का विरोध करेंगे। यह कानून केवल किसानों के लिए ही नहीं बल्कि आगामी दिनों में आम आदमी के लिए भी मुसीबत बनने वाले हैं।

बापू ने यह बात संवाददाता सम्मेलन में कही। तीनों ही नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए वाघेला ने घोषणा की थी कि यदि २५ दिसंबर अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन तक सरकार ने इन्हें वापस नहीं लिया तो वे अहमदाबाद के साबरमती आश्रम से दिल्ली राजघाट तक कूच करेंगे। राजघाट पर अनिश्चितकालीन अनशन करेंगे।
वाघेला की इस घोषणा के चलते शनिवार को वाघेला के गांधीनगर स्थित घर वसंत बगडो के बाहर सुरक्षा कर्मचारियों का चुस्त बंदोबस्त कर दिया। उन्हें नजरकैद कर लिया गया।
इतना ही नहीं वाघेला ने कहा कि उन्हें साबमती आश्रम से कूच करना तो दूर बापू के दर्शन करने तक की अनुमति सरकार ने नहीं दी। इसके बावजूद भी वाघेला की प्रजा शक्ति डेमोक्रेटिक पार्टी के समर्थकों ने साबरमती आश्रम से राजघाट जाने के लिए कूच करने की कोशिश की।
जैसे ही यहां बड़ी संख्या में वाघेला के समर्थक इकट्ठा हुए प्रदर्शन की मंजूरी नहीं होने के चलते अहमदाबाद शहर पुलिस ने इन्हें हिरासत में ले लिया। इन्हें हिरासत में लेने के लिए करीब तीन बसों की व्यवस्था पुलिस ने की थी। इन्हें अहमदाबाद शहर के जेडी नागर वाला स्टेडियम ले जाया गया था।

अब गांव-गांव जाकर करूंगा कृषि कानूनों का विरोध-वाघेला
nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned