सेवानिवृत्त शिक्षक पिता की देहदान की अंतिम इच्छा पुत्र ने की पूरी

ग्रामीण क्षेत्र से पहला मामला

By: Rajesh Bhatnagar

Published: 13 Oct 2021, 10:50 PM IST

वडोदरा. शहरों के बाद अब ग्रामीण क्षेत्र में पहली बार गुजरात के छोटा उदेपुर जिले के सेवानिवृत्त शिक्षक पिता की देहदान की अंतिम इच्छा पुत्र ने पूरी की है। ग्रामीण क्षेत्र से पहला मामला बताया गया है।
गुजरात के आदिवासी बाहुल्य छोटा उदेपुर जिला मुख्यालय पर मणियार फलियुं निवासी नानुभाई भाईलालभाई बारिया (84) का वृद्धावस्था के चलते निधन हो गया। वे छोटा उदेपुर तहसील स्कूल से शिक्षक के पद से सेवानिवृत्त हुए थे।
तीन पुत्रों में से एक पुत्र हर्षद के अनुसार पिता नानुभाई ने सादगीपूर्ण जीवन व्यतीत किया। वर्ष 2015 में एक समाचार पत्र में देहदान के बारे में पढक़र नानुभाई ने भी मृत्यु के बाद मेडिकल कॉलेज के विद्यार्थियों के अध्ययन में उपयोग के लिए देहदान करने की तैयारी बताई थी।
हर्षद के अनुसार पिता ने उस समय केवल उन्हें ही इच्छा बताते हुए अंतिम इच्छा पूरी करने के लिए कहा था। देहदान के लिए वडोदरा के सयाजी अस्पताल के मेडिकल कॉलेल में वर्ष 2019 में फार्म भी भरा था। पिता के निधन के बाद उनकी अंतिम इच्छा के अनुरूप शव लेकर सयाजी अस्पताल के मेडिकल कॉलेज पहुंचे और देहदान की गई। मेडिकल कॉलेज में मौजूद चिकित्सकों ने देहदान की प्रक्रिया पूरी की।
एनोटॉमी विभाग के अध्यक्ष डॉ. वी.एच. वाणिया सहित चिकित्सकों और मेडिकल के विद्यार्थियों ने एकत्र होकर दो मिनट का मौन रखकर नानुभाई को श्रद्धांजलि दी। डॉ. वाणिया ने देहदान के लिए परिजनों की पहल की सराहना की। उनके अनुसार अब तक शहरी क्षेत्र से अनेक लोगों के निधन के बाद देहदान की गई लेकिन पहली बार ग्रामीण क्षेत्र से देहदान की गई है।

Rajesh Bhatnagar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned