एसपी की पत्नी पढ़ाती हैं झोपड़पट्टी के बालकों को

एसपी की पत्नी पढ़ाती हैं झोपड़पट्टी के बालकों को

Gyan Prakash Sharma | Publish: Sep, 06 2018 03:14:37 PM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

शिक्षा की ज्योत, करीब ४० बच्चों को बंगले पर देती हैं शिक्षा

आणंद. जिला पुलिस अधीक्षक (एसपी) मकरंद चौहान की पत्नी निधी चौहान ने गरीब एवं झोपड़पट्टी में रहने वाले बालकों को उच्च शिक्षा देने का बीड़ा उठाया है। वे रोजाना करीब ४० बालकों को अपने बंगले पर ही पढ़ाती हैं। उनके इस अभियान में उनके पति भी पूरा सहयोग देते हैं।
इस दम्पत्ति की मेहनत का ही नतीजा है कि आज झोपड़पट्टी में रहने वाले बालकों की अंग्रेजी सुनकर लगता है कि किसी बड़े स्कूल में पढ़ते होंगे। सिर्फ शिक्षा ही नहीं, अपितु संस्कार ले रहे बालकों का कहना है कि बड़े होकर वह भी उच्च अधिकारी बनने का सपना देखने लगे हैं।
एसपी व उनकी पत्नी निवास स्थल पर मातृधारा युवा सार्वजनिक ट्रस्ट के माध्यम से गरीब एवं श्रमिक परिवार के बालकों को शिक्षित बनाने का एक अभियान चला रहे हैं। यह दम्पत्ति बंगले में कक्षा- एक से लेकर पांचवीं चक के बालकों को अंग्रेजी, गणित एवं विज्ञान का अभ्यास कर रहा है, जिसके कारण बालकों में शिक्षा प्राप्त करने का उत्साह बढ़ा है।
यह इस अभियान का ही नतीजा है कि जो बच्चे समय पर उठते भी नहीं थे, वह अब नहा-धोकर तैयार होते हैं और समय पर स्कूल जाते हैं।
दम्पत्ति ने इस अभियान की शुरुआत कच्छ जिले में की थी और जिले के ४० स्कूलों में सायन्स की स्पर्धा आयोजित की, जिसमें कमजोर रहने वाले बालकों को निधी ने पढ़ाने शुरू किया।
कच्छ जिले से आणंद जिले में तबादला होने पर अक्टूबर २०१७ से उन्होंने आणंद जिले में भी इस अभियान को शुरू किया, जिसके परिणाम स्वरूप झोपड़ी में रहने वाले श्रमिक परिवारों में बड़ा बदलाव आया है। जिन परिवारों में अभिभावक नशे के आदी थे, उन अभिभावकों को अब बच्चे नशे से दूर रहने का संदेश देते हैं।


१३ वर्ष की आयु से दे रही हैं शिक्षा
निधी चौहान का कहना है कि उन्हें बालकों को शिक्षा देने का अच्छा लगता है। वह १३ वर्ष की थी, तब दिल्ली में बालकों को पढ़ाती थी और गुजरात में आने के बाद भी उन्होंने पढ़ाना चालू रखा है।
एसपी चौहान का कहना है कि वह जब खेड़ा पुलिस अधीक्षक थे, तब उन्होंने मातृधारा ट्रस्ट की स्थापना की थी। इसके बाद जहां-जहां पोस्टिंग हुई, वहां-वहां सेवा कार्य जारी रख रहे हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned