गुजरात स्प्रिंट टू 2022 आमव्यक्ति को स्पर्श करने का विषय: रूपाणी

२०२२ तक राज्य के सभी ४३ हजार प्राइमरी स्कूलों में वाईफाई, आईसीटी,
युवा साहसिकों के पास अच्छा बिजनेस आइडिया है तो गुजरात में उनकी प्रतीक्षा है

By: nagendra singh rathore

Published: 19 Jan 2019, 11:27 PM IST

गांधीनगर. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि गुजरात स्प्रिंट टू 2022 एक माइल स्टोन नहीं बल्कि माइल स्टोन का कलेक्शन है। ये सरकार के कामकाज तक सीमित नहीं है, बल्कि आम व्यक्ति के जीवन को स्पर्श करने वाला विषय है। २०२२ तक गुजरात के सभी ४३ हजार सरकारी प्राइमरी स्कूलों में वाईफाई और आईसीटी कनेक्टिविटी सुनिश्चित की जाएगी, ताकि युवा तकनीक में पीछे ना रहें। राज्य की कॉलेजों-यूनिवर्सिटियों में प्रवेश का रेश्यो 2022 तक बढ़कर 30 प्रतिशत और आने वाले दस वर्ष में ढाई गुना तक बढ़कर 50 प्रतिशत करने का लभ्य है। सेंटर फॉर एक्सीलेंस की संख्या भी 2022 तक बढ़कर 40 हो जाएगी और आगामी दस वर्ष में 100 के आंकड़े को छुएगी।
रूपाणी ने कहा कि राज्य की अर्थव्यवस्था की मजबूती और नई नीतियों के कारण विकास दर वर्ष 2000 से 2017 के दौरान 10 प्रतिशत को लांघ गई है। गुजरात में देश की मात्र पांच प्रतिशत आबादी है लेकिन देश के निर्यात में उसका योगदान 20 प्रतिशत और जीडीपी में उसका योगदान 8 प्रतिशत है। गुजरात की अर्थव्यवस्था का कद वर्ष 2001-02 में 1.2 लाख करोड़ रुपए था, जो बढ़कर 2016-17 में 11 लाख करोड़ हो चुका है। वर्ष 2030 तक गुजरात की अर्थव्यवस्था चार गुनी बढ़कर 40 लाख करोड़ रुपए के स्तर को छू लेगी। आज गुजरात की अर्थव्यवस्था वियतनाम, न्यूजीलैंड और यूक्रेन जैसे देशों की अर्थव्यवस्था से भी बड़ी है। गुजरातियों की प्रतिव्यक्ति आय वर्ष 2030 तक 3.5 गुना बढ़कर 5.2 लाख रुपए करने का लक्ष्य है। गुजरात का मैन्युफेक्चरिंग ही वर्ष 2030 तक राज्य की जीएसडीपी में 30 प्रतिशत योगदान देने लगेगा।
उन्होंने कहा गुजरात स्प्रिंट टू 2022 युवा साहसिकों के पास अच्छे बिजनेस आइडियाज होंगे तो गुजरात में उनका स्वागत है। राज्य में फिलहाल 764 स्टार्टअप्स हैं। वर्ष 2022 तक हम राज्य में 2000 से ज्यादा नए स्टार्टअप्स को प्रोत्साहन देंगे। पोर्ट कनेक्टिविटी कच्छ और सौराष्ट्र जैसे क्षेत्रों को डायनामिक इंडस्ट्रीयल हब में परिवर्तित कर रहे हैं। इसके साथ ही वर्ष 2022 तक गुजरात में कुल पांच एलएनजी टर्मिनल होंगे। फिलहाल राज्य में 2 एलएनजी टर्मिनल हैं। वर्ष 2030 तक बाल और नवजात शिशु मृत्यु दर को 80 प्रतिशत घटाने का संकल्प है। गुजरात में वर्ष 2022 तक एयर ट्रैवल द्वारा कनेक्ट होने वाले यात्रियों की संख्या चार गुना बढ़ेगी जो अभी प्रतिदिन 30 हजार है। वर्ष 2022 तक अहमदाबाद और मुंबई को जोडऩे वाली भारत की सर्वप्रथम बुलेट ट्रेन भी यात्रा के लिए तैयार हो जाएगी।
चार वर्ष में रिन्युएबल एनर्जी का हिस्सा 30 प्रतिशत हो जाएगा और आने वाले दस वर्ष में यह हिस्सा जर्मनी-जापान से भी ज्यादा करीब 50 प्रतिशत के स्तर तक ले जाने का संकल्प है। गुजरात में धोलेरा एसआईआर में 5,000 मेगावाट का सोलर पार्क स्थापित हो रहा है जिसके चलते गुजरात की सोलर कैपेसिटी बढ़कर 6,200 मेगावाट हो जाएगी जो देश की कुल सोलर क्षमता का 25 प्रतिशत होगा।
कच्छ-दहेज-जामनगर सहित क्षेत्रों में चार नए प्रस्तावित डिसेलिनेशन प्लांट और जामनगर के जोडिया के तट पर एक मेगा डिसेलिनेशन प्लांट आकार ले रहा है। जामनगर का प्लांट 2022 तक कार्यान्वित हो जाएगा जिसकी क्षमता रोजाना 10 करोड़ लीटर होगी। बाद में यह 5-10 वर्ष में बढ़कर 150 करोड़ लीटर हो जाएगी। पावर सरप्लस स्टेट गुजरात आगे चलकर ड्रिंकिंग वाटर सरप्लस राज्य बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। भारत में स्थानीय तथा वैश्विक पर्यटकों में गुजरात का हिस्सा 4 प्रतिशत है जो 2030 तक 10 प्रतिशत हो जाएगा।

 

Mahatma mandir

इस साल १.८३ लाख करोड़ का होगा गुजरात का बजट
उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल ने स्प्रिंट गुजरात २०२२ में कहा कि गुजरात का बजट देश के अन्य राज्यों की तुलना में बहुत ज्यादा है। इस वर्ष गुजरात राज्य का बजट 1,83,000 करोड़ का होगा। वित्तीय अनुशासन में गुजरात देशभर में अग्रसर है।
शिक्षा मंत्री भूपेन्द्रसिंह चूड़ास्मा ने कहा कि गुजरात में शिक्षा को प्राथमिक स्तर से लेकर हाई एजुकेशन तक समग्रतया गुणवत्तापूर्ण और आधुनिक बनाने के व्यापक प्रयास किए हैं और भी किए जाएंगे।
परिचर्चा का संचालन केपीएमजी के सीईओ अरूण कुमार ने किया। इस अवसर पर राज्य के कई मंत्री व देश-विदेश से आए प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

Nitin Patel
nagendra singh rathore
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned